Best Bewafa Shayari in hindi | बेवफा शायरी हिंदी में


Bewafa Shayari in Hindi, Bewafa Poetry Status for GF BF, Bewafa shayari hindi mai




Bewafa Shayari in Hindi, Bewafa Poetry Status for GF BF, Bewafa shayari hindi mai



कभी करीब तो कभी जुदा है तू;
जाने किस-किस से खफा है तू;
मुझे तो तुझ पर खुद से ज्यादा यकीं था;
पर ज़माना सच ही कहता था कि बेवफ़ा है तू।

Kabhi karib to kabhi judaa hai tu;
Jaane kis-kis se khaphaa hai tu;
Mujhe to tujh par khud se jyaadaa yakin thaa;
Par jmaanaa sach hi kahtaa thaa ki bevfaa hai tu।


जानते थे कि नहीं हो सकते कभी तुम हमारे;
फिर भी खुदा से तुम्हें माँगने की आदत हो गयी;
पैमाने वफ़ा क्या है, हमें क्या मालूम;
कि बेवफाओं से दिल लगाने की आदत हो गयी।

Jaante the ki nahin ho sakte kabhi tum hamaare;
Phir bhi khudaa se tumhen maangne ki aadat ho gayi;
Paimaane vfaa kyaa hai, hamen kyaa maalum;
Ki bevphaaon se dil lagaane ki aadat ho gayi।

Bewafa Poetry Status for GF BF, Bewafa shayari hindi mai


ज़िन्दगी से बस यही गिला है;
ख़ुशी के बाद क्यों ये गम मिला है;
हमने तो उनसे वफ़ा की थी;
पर नहीं जानते थे कि बेवफाई ही वफ़ा का सिला है।

Jindgi se bas yahi gilaa hai;
Khushi ke baad kyon ye gam milaa hai;
Hamne to unse vfaa ki thi;
Par nahin jaante the ki bevphaai hi vfaa kaa silaa hai।


जाने मेरी आँखों से कितने आँसू बह गए;
इंसानो की इस भीड़ में देखो हम तनहा रह गए;
करते थे जो कभी अपनी वफ़ा की बातें;
आज वही सनम हमें बेवफ़ा कह गए।

Jaane meri aankhon se kitne aansu bah gaye; Ensaano ki es bhid men dekho ham tanhaa rah gaye; Karte the jo kabhi apni vfaa ki baaten; Aaj vahi sanam hamen bevfaa kah gaye।

Bewafa Shayari in Hindi For Grilfriend & Boyfriends 2020


आग दिल में लगी जब वो खफा हुए;
महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए;
करके वफ़ा कुछ दे ना सकें वो;
पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफा हुए।

Aag dil men lagi jab vo khaphaa hua; Mahsus huaa tab, jab vo judaa hua; Karke vfaa kuchh de naa saken vo; Par bahut kuchh de gaye jab vo bevphaa hua।

तेरी चौखट से सिर उठाऊं तो बेवफा कहना;
तेरे सिवा किसी और को चाहूँ तो बेवफा कहना;
मेरी वफाओं पे शक है तो खंजर उठा लेना;
शौंक से मर ना जाऊं तो बेवफा कहना।

Teri chaukhat se sir uthaaun to bevphaa kahnaa;
Tere sivaa kisi aur ko chaahun to bevphaa kahnaa;
Meri vaphaaon pe shak hai to khanjar uthaa lenaa;
Shaunk se mar naa jaaun to bevphaa kahnaa।

Sad Shayari in Hindi 30+ Best & New Shayari Collection


महफ़िल में कुछ तो सुनाना पड़ता है;
ग़म छुपा कर मुस्कुराना पड़ता है;
कभी हम भी उनके अज़ीज़ थे;
आज-कल ये भी उन्हें याद दिलाना पड़ता है।

Mahfil men kuchh to sunaanaa pdtaa hai;
Gm chhupaa kar muskuraanaa pdtaa hai;
Kabhi ham bhi unke ajij the;
Aaj-kal ye bhi unhen yaad dilaanaa pdtaa hai।


कोई भी नहीं यहाँ पर अपना होता;
इस दुनिया ने ये सिखाया है हमको;
उसकी बेवफाई का ना चर्चा करना;
आज दिल ने ये समझाया है हमको

Koi bhi nahin yahaan par apnaa hotaa; Es duniyaa ne ye sikhaayaa hai hamko; Uski bevphaai kaa naa charchaa karnaa; Aaj dil ne ye samjhaayaa hai hamko


Heart Touching Sad Bewafa Shayari in Hindi for Girlfriend



ज़िंदगी से बस यही एक गिला है;
ख़ुशी के बाद न जाने क्यों गम मिला है;
हमने तो की थी वफ़ा उनसे जी भर के;
पर नहीं जानते थे कि वफ़ा के बदले बेवफाई ही सिला है।

Jindgi se bas yahi ek gilaa hai;
Khushi ke baad n jaane kyon gam milaa hai;
Hamne to ki thi vfaa unse ji bhar ke;
Par nahin jaante the ki vfaa ke badle bevphaai hi silaa hai।

कभी करीब तो कभी जुदा था तू;
जाने किस-किस से ख़फ़ा है तू;
मुझे तो तुझ पर खुद से ज्यादा यकीन था;
पर ज़माना सच ही कहता था कि बेवफ़ा है तू।

Kabhi karib to kabhi judaa thaa tu;
Jaane kis-kis se khfaa hai tu;
Mujhe to tujh par khud se jyaadaa yakin thaa;
Par jmaanaa sach hi kahtaa thaa ki bevfaa hai tu।


Bewafa shayari in hindi for girlfriend 120 words | Hindi shayari bewafa sanam


वो निकल गए मेरे रास्ते से इस कदर कि;
जैसे कि वो मुझे पहचानते ही नहीं;
कितने ज़ख्म खाए हैं मेरे इस दिल ने;
फिर भी हम उस बेवफ़ा को बेवफ़ा मानते ही नहीं।

Vo nikal gaye mere raaste se es kadar ki;
Jaise ki vo mujhe pahchaante hi nahin;
Kitne jkhm khaaa hain mere es dil ne;
Phir bhi ham us bevfaa ko bevfaa maante hi nahin।


उनकी मोहब्बत के अभी निशान बाकी है;
नाम लब पर है और जान बाकी है;
क्या हुआ अगर देख कर मुँह फेर लेते हैं;
तसल्ली है कि शक्ल की पहचान बाकी है।

Unki mohabbat ke abhi nishaan baaki hai; Naam lab par hai aur jaan baaki hai; Kyaa huaa agar dekh kar munh pher lete hain; Tasalli hai ki shakl ki pahchaan baaki hai।

एक ख़ुशी की चाह में हर ख़ुशी से दूर हुए हम;
किसी से कुछ कह भी ना सके इतने मज़बूर हुए हम;
ना आई उन्हें निभानी वफ़ा इस दौर-ए-इश्क़ में;
और ज़माने की नज़र में बेवफ़ा के नाम से मशहूर हुए हम।

Ek khushi ki chaah men har khushi se dur hua ham;
Kisi se kuchh kah bhi naa sake etne mjbur hua ham;
Naa aai unhen nibhaani vfaa es daur-aye-eshk men;
Aur jmaane ki njar men bevfaa ke naam se mashhur hua ham।

एक बार रोये तो रोते चले गए;
दामन अश्कों से भिगोते चले गए;
जब जाम मिला बेवफाई का तो;
खुद को पैमाने में डुबोते चले गए।

Ek baar roye to rote chale gaye;
Daaman ashkon se bhigote chale gaye;
Jab jaam milaa bevphaai kaa to;
Khud ko paimaane men dubote chale gaye।


हर पल कुछ सोचते रहने की आदत गयी है;
हर आहट पे च चौंक जाने की आदत हो गयी है;
तेरे इश्क़ में ऐ बेवफा, हिज्र की रातों के संग;
हमको भी जागते रहने की आदत हो गयी है।

Har pal kuchh sochte rahne ki aadat gayi hai;
Har aahat pe ch chaunk jaane ki aadat ho gayi hai;
Tere eshk men ai bevphaa, hijr ki raaton ke sang;
Hamko bhi jaagte rahne ki aadat ho gayi hai।


तेरे इश्क़ ने दिया सुकून इतना;
कि तेरे बाद कोई अच्छा न लगे;
तुझे करनी है बेवफाई तो इस अदा से कर;
कि तेरे बाद कोई बेवफ़ा न लगे।

Tere eshk ne diyaa sukun etnaa; Ki tere baad koi achchhaa n lage;
Tujhe karni hai bevphaai to es adaa se kar; Ki tere baad koi bevfaa n lage।

कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी;
कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी;
बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने;
आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी।

Kabhi gm to kabhi tanhaai maar gayi; Kabhi yaad aa kar unki judaai maar gayi; Bahut tut kar chaahaa jisko hamne; Aakhir men unki hi bevphaai maar gayi।
जो ज़ख्म दे गए हो आप मुझे;
ना जाने क्यों वो ज़ख्म भरता नहीं;
चाहते तो हम भी हैं कि आपसे अब न मिलें;
मगर ये जो दिल है कमबख्त कुछ समझता ही नहीं।


Jo jkhm de gaye ho aap mujhe;
Naa jaane kyon vo jkhm bhartaa nahin;
Chaahte to ham bhi hain ki aapse ab n milen;
Magar ye jo dil hai kamabakht kuchh samajhtaa hi nahin।


हर धड़कन में एक राज़ होता है;
बात को बताने का भी एक अंदाज़ होता है;
जब तक ना लगे ठोकर बेवाफ़ाई की;
हर किसी को अपने प्यार पर नाज़ होता है।

Har dhadakan men ek raaj hotaa hai; Baat ko bataane kaa bhi ek andaaj hotaa hai; Jab tak naa lage thokar bevaaphaai ki; Har kisi ko apne pyaar par naaj hotaa hai।

हो गया हूँ मशहूर तो ज़ाहिर है दोस्तो;
इलज़ाम सौ तरह के मेरे सर भी आयेंगे;
थोड़ा सा अपनी चाल बदल कर चलो;
सीधे चले तो मुमकिन है पीठ में खंज़र भी आयेंगे।

Ho gayaa hun mashhur to jaahir hai dosto;
Elajaam sau tarah ke mere sar bhi aayenge;
Thodaa saa apni chaal badal kar chalo;
Sidhe chale to mumakin hai pith men khanjar bhi aayenge।


ना जाने क्या सोच कर लहरें साहिल से टकराती हैं;
और फिर समंदर में लौट जाती हैं;
समझ नहीं आता कि किनारों से बेवफाई करती हैं;
या फिर लौट कर समंदर से वफ़ा निभाती हैं।


Naa jaane kyaa soch kar lahren saahil se takraati hain;
Aur phir samandar men laut jaati hain;
Samajh nahin aataa ki kinaaron se bevphaai karti hain;
Yaa phir laut kar samandar se vfaa nibhaati hain।


हर पल कुछ सोचते रहने की आदत हो गयी है;
हर आहट पे चौंक जाने की आदत हो गयी है;
तेरे इश्क़ में ऐ बेवफा, हिज्र की रातों के संग;
हमको भी जागते रहने की आदत हो गयी है।

Har pal kuchh sochte rahne ki aadat ho gayi hai;
Har aahat pe chaunk jaane ki aadat ho gayi hai;
Tere eshk men ai bevphaa, hijr ki raaton ke sang;
Hamko bhi jaagte rahne ki aadat ho gayi hai।


वो पानी की लहरों पे क्या लिख रहा था;
खुदा जाने हरफ-ऐ-दुआ लिख रहा था;
महोब्बत में मिली थी नफरत उसे भी शायद;
इसलिए हर शख्स को शायद बेवफा लिख रहा था।


Vo paani ki lahron pe kyaa likh rahaa thaa;
Khudaa jaane haraph-ai-duaa likh rahaa thaa;
Mahobbat men mili thi napharat use bhi shaayad;
Esalia har shakhs ko shaayad bevphaa likh rahaa thaa।


मशहूर हो गया हूँ तो ज़ाहिर है दोस्तो;
इलज़ाम सौ तरह के मेरे सर भी आयेंगे;
थोड़ा सा अपनी चाल बदल कर चलो;
सीधे चले तो मुमकिन है पीठ में खंज़र भी आयेंगे।

Mashhur ho gayaa hun to jaahir hai dosto;
Elajaam sau tarah ke mere sar bhi aayenge;
Thodaa saa apni chaal badal kar chalo;
Sidhe chale to mumakin hai pith men khanjar bhi aayenge।


वफ़ा करने से मुकर गया है दिल;
अब प्यार करने से डर गया है दिल;
अब किसी सहारे की बात मत करना;
झूठे दिलासों से भर गया है अब यह दिल।


Vfaa karne se mukar gayaa hai dil;
Ab pyaar karne se dar gayaa hai dil;
Ab kisi sahaare ki baat mat karnaa;
Jhuthe dilaason se bhar gayaa hai ab yah dil।

नमस्ते! मेरा रजनीश कुमार है। मै आपको यहां शायरी से सम्बंधित articles लिखता हूँ। यदि आप शायरी से संबंधित कोई articles लिखना चाहते हैं, तो कृपया royrajnish333@gmail.com पर लिख कर ईमेल करे । कृपया अपने ईमेल में अपने पूर्ण नाम के साथ हमें ईमेल करे ।

Post a comment

नमस्ते! मेरा रजनीश कुमार है। मै आपको यहां शायरी से सम्बंधित articles लिखता हूँ। यदि आप शायरी से संबंधित कोई articles लिखना चाहते हैं, तो कृपया royrajnish333@gmail.com पर लिख कर ईमेल करे । कृपया अपने ईमेल में अपने पूर्ण नाम के साथ हमें ईमेल करे ।

Post a Comment (0)

Previous Post Next Post