Best Bewafa Shayari in hindi | बेवफा शायरी हिंदी में


कभी करीब तो कभी जुदा है तू;
जाने किस-किस से खफा है तू;
मुझे तो तुझ पर खुद से ज्यादा यकीं था;
पर ज़माना सच ही कहता था कि बेवफ़ा है तू।

kabhi karib to kabhi judaa hai tu;
jaane kis-kis se khaphaa hai tu;
mujhe to tujh par khud se jyaadaa yakin thaa;
par jmaanaa sach hi kahtaa thaa ki bevfaa hai tu।


जानते थे कि नहीं हो सकते कभी तुम हमारे;
फिर भी खुदा से तुम्हें माँगने की आदत हो गयी;
पैमाने वफ़ा क्या है, हमें क्या मालूम;
कि बेवफाओं से दिल लगाने की आदत हो गयी।

jaante the ki nahin ho sakte kabhi tum hamaare;
phir bhi khudaa se tumhen maangne ki aadat ho gayi;
paimaane vfaa kyaa hai, hamen kyaa maalum;
ki bevphaaon se dil lagaane ki aadat ho gayi।


ज़िन्दगी से बस यही गिला है;
ख़ुशी के बाद क्यों ये गम मिला है;
हमने तो उनसे वफ़ा की थी;
पर नहीं जानते थे कि बेवफाई ही वफ़ा का सिला है।


jindgi se bas yahi gilaa hai;
khushi ke baad kyon ye gam milaa hai;
hamne to unse vfaa ki thi;

par nahin jaante the ki bevphaai hi vfaa kaa silaa hai।

जाने मेरी आँखों से कितने आँसू बह गए;
इंसानो की इस भीड़ में देखो हम तनहा रह गए;
करते थे जो कभी अपनी वफ़ा की बातें;
आज वही सनम हमें बेवफ़ा कह गए।

jaane meri aankhon se kitne aansu bah gaye; ensaano ki es bhid men dekho ham tanhaa rah gaye; karte the jo kabhi apni vfaa ki baaten; aaj vahi sanam hamen bevfaa kah gaye।


आग दिल में लगी जब वो खफा हुए;
महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए;
करके वफ़ा कुछ दे ना सकें वो;
पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफा हुए।

aag dil men lagi jab vo khaphaa hua; mahsus huaa tab, jab vo judaa hua; karke vfaa kuchh de naa saken vo; par bahut kuchh de gaye jab vo bevphaa hua।

तेरी चौखट से सिर उठाऊं तो बेवफा कहना;
तेरे सिवा किसी और को चाहूँ तो बेवफा कहना;
मेरी वफाओं पे शक है तो खंजर उठा लेना;
शौंक से मर ना जाऊं तो बेवफा कहना।

teri chaukhat se sir uthaaun to bevphaa kahnaa;
tere sivaa kisi aur ko chaahun to bevphaa kahnaa;
meri vaphaaon pe shak hai to khanjar uthaa lenaa;
shaunk se mar naa jaaun to bevphaa kahnaa।



महफ़िल में कुछ तो सुनाना पड़ता है;
ग़म छुपा कर मुस्कुराना पड़ता है;
कभी हम भी उनके अज़ीज़ थे;
आज-कल ये भी उन्हें याद दिलाना पड़ता है।

mahfil men kuchh to sunaanaa pdtaa hai;
gm chhupaa kar muskuraanaa pdtaa hai;
kabhi ham bhi unke ajij the;
aaj-kal ye bhi unhen yaad dilaanaa pdtaa hai।


कोई भी नहीं यहाँ पर अपना होता;
इस दुनिया ने ये सिखाया है हमको;
उसकी बेवफाई का ना चर्चा करना;
आज दिल ने ये समझाया है हमको

koi bhi nahin yahaan par apnaa hotaa; es duniyaa ne ye sikhaayaa hai hamko; uski bevphaai kaa naa charchaa karnaa; aaj dil ne ye samjhaayaa hai hamko


ज़िंदगी से बस यही एक गिला है;
ख़ुशी के बाद न जाने क्यों गम मिला है;
हमने तो की थी वफ़ा उनसे जी भर के;
पर नहीं जानते थे कि वफ़ा के बदले बेवफाई ही सिला है।


jindgi se bas yahi ek gilaa hai;
khushi ke baad n jaane kyon gam milaa hai;
hamne to ki thi vfaa unse ji bhar ke;

par nahin jaante the ki vfaa ke badle bevphaai hi silaa hai।

कभी करीब तो कभी जुदा था तू;
जाने किस-किस से ख़फ़ा है तू;
मुझे तो तुझ पर खुद से ज्यादा यकीन था;
पर ज़माना सच ही कहता था कि बेवफ़ा है तू।


kabhi karib to kabhi judaa thaa tu;
jaane kis-kis se khfaa hai tu;
mujhe to tujh par khud se jyaadaa yakin thaa;

par jmaanaa sach hi kahtaa thaa ki bevfaa hai tu।

वो निकल गए मेरे रास्ते से इस कदर कि;
जैसे कि वो मुझे पहचानते ही नहीं;
कितने ज़ख्म खाए हैं मेरे इस दिल ने;
फिर भी हम उस बेवफ़ा को बेवफ़ा मानते ही नहीं।

vo nikal gaye mere raaste se es kadar ki;
jaise ki vo mujhe pahchaante hi nahin;
kitne jkhm khaaa hain mere es dil ne;
phir bhi ham us bevfaa ko bevfaa maante hi nahin।



उनकी मोहब्बत के अभी निशान बाकी है;
नाम लब पर है और जान बाकी है;
क्या हुआ अगर देख कर मुँह फेर लेते हैं;
तसल्ली है कि शक्ल की पहचान बाकी है।

unki mohabbat ke abhi nishaan baaki hai; naam lab par hai aur jaan baaki hai; kyaa huaa agar dekh kar munh pher lete hain; tasalli hai ki shakl ki pahchaan baaki hai।


एक ख़ुशी की चाह में हर ख़ुशी से दूर हुए हम;
किसी से कुछ कह भी ना सके इतने मज़बूर हुए हम;
ना आई उन्हें निभानी वफ़ा इस दौर-ए-इश्क़ में;
और ज़माने की नज़र में बेवफ़ा के नाम से मशहूर हुए हम।

ek khushi ki chaah men har khushi se dur hua ham;
kisi se kuchh kah bhi naa sake etne mjbur hua ham;
naa aai unhen nibhaani vfaa es daur-aye-eshk men;
aur jmaane ki njar men bevfaa ke naam se mashhur hua ham।


एक बार रोये तो रोते चले गए;
दामन अश्कों से भिगोते चले गए;
जब जाम मिला बेवफाई का तो;
खुद को पैमाने में डुबोते चले गए।

ek baar roye to rote chale gaye;
daaman ashkon se bhigote chale gaye;
jab jaam milaa bevphaai kaa to;
khud ko paimaane men dubote chale gaye।


हर पल कुछ सोचते रहने की आदत गयी है;
हर आहट पे च चौंक जाने की आदत हो गयी है;
तेरे इश्क़ में ऐ बेवफा, हिज्र की रातों के संग;
हमको भी जागते रहने की आदत हो गयी है।

har pal kuchh sochte rahne ki aadat gayi hai;
har aahat pe ch chaunk jaane ki aadat ho gayi hai;
tere eshk men ai bevphaa, hijr ki raaton ke sang;
hamko bhi jaagte rahne ki aadat ho gayi hai।


तेरे इश्क़ ने दिया सुकून इतना;
कि तेरे बाद कोई अच्छा न लगे;
तुझे करनी है बेवफाई तो इस अदा से कर;
कि तेरे बाद कोई बेवफ़ा न लगे।

tere eshk ne diyaa sukun etnaa; ki tere baad koi achchhaa n lage; tujhe karni hai bevphaai to es adaa se kar; ki tere baad koi bevfaa n lage।

कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी;
कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी;
बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने;
आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी।

kabhi gm to kabhi tanhaai maar gayi; kabhi yaad aa kar unki judaai maar gayi; bahut tut kar chaahaa jisko hamne; aakhir men unki hi bevphaai maar gayi।

जो ज़ख्म दे गए हो आप मुझे;
ना जाने क्यों वो ज़ख्म भरता नहीं;
चाहते तो हम भी हैं कि आपसे अब न मिलें;
मगर ये जो दिल है कमबख्त कुछ समझता ही नहीं।


jo jkhm de gaye ho aap mujhe;
naa jaane kyon vo jkhm bhartaa nahin;
chaahte to ham bhi hain ki aapse ab n milen;

magar ye jo dil hai kamabakht kuchh samajhtaa hi nahin।


हर धड़कन में एक राज़ होता है;
बात को बताने का भी एक अंदाज़ होता है;
जब तक ना लगे ठोकर बेवाफ़ाई की;
हर किसी को अपने प्यार पर नाज़ होता है।

har dhadakan men ek raaj hotaa hai; baat ko bataane kaa bhi ek andaaj hotaa hai; jab tak naa lage thokar bevaaphaai ki; har kisi ko apne pyaar par naaj hotaa hai।



हो गया हूँ मशहूर तो ज़ाहिर है दोस्तो;
इलज़ाम सौ तरह के मेरे सर भी आयेंगे;
थोड़ा सा अपनी चाल बदल कर चलो;
सीधे चले तो मुमकिन है पीठ में खंज़र भी आयेंगे।



ho gayaa hun mashhur to jaahir hai dosto;
elajaam sau tarah ke mere sar bhi aayenge;
thodaa saa apni chaal badal kar chalo;
sidhe chale to mumakin hai pith men khanjar bhi aayenge।

ना जाने क्या सोच कर लहरें साहिल से टकराती हैं;
और फिर समंदर में लौट जाती हैं;
समझ नहीं आता कि किनारों से बेवफाई करती हैं;
या फिर लौट कर समंदर से वफ़ा निभाती हैं।


naa jaane kyaa soch kar lahren saahil se takraati hain;
aur phir samandar men laut jaati hain;
samajh nahin aataa ki kinaaron se bevphaai karti hain;
yaa phir laut kar samandar se vfaa nibhaati hain।

हर पल कुछ सोचते रहने की आदत हो गयी है;
हर आहट पे चौंक जाने की आदत हो गयी है;
तेरे इश्क़ में ऐ बेवफा, हिज्र की रातों के संग;
हमको भी जागते रहने की आदत हो गयी है।

har pal kuchh sochte rahne ki aadat ho gayi hai;
har aahat pe chaunk jaane ki aadat ho gayi hai;
tere eshk men ai bevphaa, hijr ki raaton ke sang;
hamko bhi jaagte rahne ki aadat ho gayi hai।



वो पानी की लहरों पे क्या लिख रहा था;
खुदा जाने हरफ-ऐ-दुआ लिख रहा था;
महोब्बत में मिली थी नफरत उसे भी शायद;
इसलिए हर शख्स को शायद बेवफा लिख रहा था।


vo paani ki lahron pe kyaa likh rahaa thaa;
khudaa jaane haraph-ai-duaa likh rahaa thaa;
mahobbat men mili thi napharat use bhi shaayad;

esalia har shakhs ko shaayad bevphaa likh rahaa thaa।


मशहूर हो गया हूँ तो ज़ाहिर है दोस्तो;
इलज़ाम सौ तरह के मेरे सर भी आयेंगे;
थोड़ा सा अपनी चाल बदल कर चलो;
सीधे चले तो मुमकिन है पीठ में खंज़र भी आयेंगे।

mashhur ho gayaa hun to jaahir hai dosto;
elajaam sau tarah ke mere sar bhi aayenge;
thodaa saa apni chaal badal kar chalo;
sidhe chale to mumakin hai pith men khanjar bhi aayenge।


वफ़ा करने से मुकर गया है दिल;
अब प्यार करने से डर गया है दिल;
अब किसी सहारे की बात मत करना;
झूठे दिलासों से भर गया है अब यह दिल।


vfaa karne se mukar gayaa hai dil;
ab pyaar karne se dar gayaa hai dil;
ab kisi sahaare ki baat mat karnaa;

jhuthe dilaason se bhar gayaa hai ab yah dil।

Post a comment

0 Comments