Bewafa girlfriend shayari in Hindi

Bewafa girlfriend shayari in Hindi, bewafa shayari in hindi for girlfriend,hindi shayari,bewafa shayari in hindi for boyfriend,bewafa shayari,bewafa shayari in hindi,bewafa shayari in hindi for love,shayari,sad shayari,sad love shayari in hindi for girlfriend - hindi shayari,sad love shayari in hindi for boyfriend,hindi sad shayari,bewafa shayari hindi,shayari hindi,hindi shayari video,sad hindi shayari on sad love
Bewafa girlfriend shayari in Hindi



मिलना इत्तिफाक था, बिछड़ना नसीब था;
वो उतना ही दूर चला गया जितना वो करीब था;
हम उसको देखने क लिए तरसते रहे;
जिस शख्स की हथेली पे हमारा नसीब था।

milnaa ettiphaak thaa, bichhdnaa nasib thaa; vo utnaa hi dur chalaa gayaa jitnaa vo karib thaa; ham usko dekhne k lia taraste rahe; jis shakhs ki hatheli pe hamaaraa nasib thaa।


समझा ना कोई दिल की बात को;
दर्द दुनिया ने बिना सोचे ही दे दिया;
जो सह गए हर दर्द को हम चुपके से;
तो हमको ही पत्थर दिल कह दिया।

samjhaa naa koi dil ki baat ko; dard duniyaa ne binaa soche hi de diyaa; jo sah gaye har dard ko ham chupke se; to hamko hi patthar dil kah diyaa।



बिन बात के ही रूठने की आदत है;
किसी अपने का साथ पाने की चाहत है;
आप खुश रहें, मेरा क्या है;
मैं तो आइना हूँ, मुझे तो टूटने की आदत है।


bin baat ke hi ruthne ki aadat hai;
kisi apne kaa saath paane ki chaahat hai;
aap khush rahen, meraa kyaa hai;

main to aaenaa hun, mujhe to tutne ki aadat hai।

लिखूं कुछ आज यह वक़्त का तकाजा है;
मेरे दिल का दर्द अभी ताजा-ताजा है;
गिर पड़ते हैं मेरे आंसू मेरे ही कागज पर;
लगता है कि कलम में स्याही का दर्द ज्यादा है!

likhun kuchh aaj yah vkt kaa takaajaa hai; mere dil kaa dard abhi taajaa-taajaa hai; gir pdte hain mere aansu mere hi kaagaj par; lagtaa hai ki kalam men syaahi kaa dard jyaadaa hai!


शेर के पर्दे में मैं ने ग़म सुनाया है बहुत, मर्सिये ने दिल को मेरे भी रुलाया है बहुत;
दी-ओ-कोहसर में रोता हूँ दहाड़े मार-मार, दिलबरान-ए-शहर ने मुझ को सताया है बहुत;
नहीं होता किसी से दिल गिरिफ़्ता इश्क़ का,ज़ाहिरा ग़मगीं उसे रहना ख़ुश आया है बहुत!

sher ke parde men main ne gam sunaayaa hai bahut, marsiye ne dil ko mere bhi rulaayaa hai bahut; di-o-kohasar men rotaa hun dahaade maar-maar, dilabraan-aye-shahar ne mujh ko sataayaa hai bahut; nahin hotaa kisi se dil giriphtaa eshk kaa,jaahiraa gamgin use rahnaa khush aayaa hai bahut!



वो तो अपने दर्द रो-रो के सुनते रहे;
हमारी तन्हाइयों से आँख चुराते रहे;
और हमें बेवफा का नाम मिला क्योंकि;
हम हर दर्द मुस्कुरा कर छुपाते रहे!

vo to apne dard ro-ro ke sunte rahe; hamaari tanhaaeyon se aankh churaate rahe; aur hamen bevphaa kaa naam milaa kyonki; ham har dard muskuraa kar chhupaate rahe!

ज़ख़्म जब मेरे सीने के भर जाएँगे;
आँसू भी मोती बनकर बिखर जाएँगे;
ये मत पूछना किस किस ने धोखा दिया;
वरना कुछ अपनो के चेहरे उतर जाएँगे।

jakhm jab mere sine ke bhar jaaange; aansu bhi moti banakar bikhar jaaange; ye mat puchhnaa kis kis ne dhokhaa diyaa; varnaa kuchh apno ke chehre utar jaaange।


गुलाब तो टूट कर बिखर जाता है;
पर खुशबु हवा में बरकरार रहती है;
जाने वाले तो छोड़ के चले जाते हैं;
पर एहसास तो दिलों में बरकरार रहते हैं।

gulaab to tut kar bikhar jaataa hai; par khushabu havaa men barakraar rahti hai; jaane vaale to chhod ke chale jaate hain; par ehsaas to dilon men barakraar rahte hain।


बीते हुए कुछ दिन ऐसे हैं;
तन्हाई जिन्हें दोहराती है;
रो-रो के गुजरती हैं रातें;
आंखों में सहर हो जाती है!

bite hua kuchh din aise hain; tanhaai jinhen dohraati hai; ro-ro ke gujarti hain raaten; aankhon men sahar ho jaati hai!


दर्द ही सही मेरे इश्क का इनाम तो आया;
खाली ही सही हाथों में जाम तो आया;
मैं हूँ बेवफ़ा सबको बताया उसने;
यूँ ही सही, उसके लबों पे मेरा नाम तो आया।

dard hi sahi mere eshk kaa enaam to aayaa; khaali hi sahi haathon men jaam to aayaa; main hun bevaphaa sabko bataayaa usne; yun hi sahi, uske labon pe meraa naam to aayaa।


दर्द अगर काजल होता तो आँखों में लगा लेते;
दर्द अगर आँचल होता तो अपने सर पर सजा लेते;
दर्द अगर समुंदर होता तो दिल को हम साहिल बना लेते;
और दर्द अगर तेरी मोहब्बत होती तो उसको चाहत-ऐ ला हासिल बना लेते।

dard agar kaajal hotaa to aankhon men lagaa lete; dard agar aanchal hotaa to apne sar par sajaa lete; dard agar samundar hotaa to dil ko ham saahil banaa lete; aur dard agar teri mohabbat hoti to usko chaahat-ai laa haasil banaa lete।


हमनें जब किया दर्द-ए-दिल बयां, तो शेर बन गया;
लोगों ने सुना तो वाह वाह किया, दर्द और बढ़ गया;
मोहब्बत की पाक रूह मेरे साँसों में है;
ख़त लिखा जब गम कम करने के लिए तो गम और बढ़ गया।


hamnen jab kiyaa dard-aye-dil bayaan, to sher ban gayaa;
logon ne sunaa to vaah vaah kiyaa, dard aur badh gayaa;
mohabbat ki paak ruh mere saanson men hai;

khat likhaa jab gam kam karne ke lia to gam aur badh gayaa।

ज़रा सी देर को आये ख्वाब आँखों में;
फिर उसके बाद मुसलसल अज़ाब आँखों में;
वो जिस के नाम की निस्बत से रौशनी था वजूद;
खटक रहा है वही आफताब आँखों में!


jraa si der ko aaye khvaab aankhon men;
phir uske baad musalasal ajaab aankhon men;
vo jis ke naam ki nisbat se raushni thaa vajud;

khatak rahaa hai vahi aaphtaab aankhon men!


अभी सूरज नहीं डूबा ज़रा सी शाम होने दो;
मैं खुद लौट जाउंगा मुझे नाकाम होने दो;
मुझे बदनाम करने का बहाना ढूँढ़ते हो क्यों;
मैं खुद हो जाऊंगा बदनाम पहले नाम होने दो!

abhi suraj nahin dubaa jraa si shaam hone do; main khud laut jaaungaa mujhe naakaam hone do; mujhe badnaam karne kaa bahaanaa dhundhte ho kyon; main khud ho jaaungaa badnaam pahle naam hone do!



मेरी बर्बादी पर तू कोई मलाल ना करना;
भूल जाना मेरा ख्याल ना करना;
हम तेरी ख़ुशी के लिए कफ़न ओढ़ लेंगे;
पर तुम मेरी लाश ले कोई सवाल मत करना!

meri barbaadi par tu koi malaal naa karnaa; bhul jaanaa meraa khyaal naa karnaa; ham teri khushi ke lia kaphan odh lenge; par tum meri laash le koi savaal mat karnaa!

Post a comment

0 Comments