Bewafa shayari for friend in hindi

Bewafa shayari for friend in hindi
Bewafa shayari for friend in hindi

धड़कन बिना दिल का मतलब ही क्या;
रौशनी के बिना दिये का मतलब ही क्या;
क्यों कहते हैं लोग कि मोहब्बत न कर दर्द मिलता है;
वो क्या जाने कि दर्द बिना मोहब्बत का मतलब ही क्या।

dhdakan binaa dil kaa matalab hi kyaa;
raushni ke binaa diye kaa matalab hi kyaa;
kyon kahte hain log ki mohabbat n kar dard miltaa hai;

vo kyaa jaane ki dard binaa mohabbat kaa matalab hi kyaa।

बहुत अजीब हैं ये बंदिशें मोहब्बत की;
कोई किसी को टूट कर चाहता है;
और कोई किसी को चाह कर टूट जाता है।

bahut ajib hain ye bandishen mohabbat ki;
koi kisi ko tut kar chaahtaa hai;

aur koi kisi ko chaah kar tut jaataa hai।

समझौतों की भीड़-भाड़ में सबसे रिश्ता टूट गया;
इतने घुटने टेके हमने आख़िर घुटना टूट गया;
ये मंज़र भी देखे हमने इस दुनिया के मेले में;
टूटा-फूटा ​ बचा​ रहा है, अच्छा ख़ासा टूट गया।

samjhauton ki bhid-bhaad men sabse rishtaa tut gayaa; etne ghutne teke hamne aakhir ghutnaa tut gayaa; ye manjar bhi dekhe hamne es duniyaa ke mele men; tutaa-phutaa ​ bachaa​ rahaa hai, achchhaa khaasaa tut gayaa।

दिल पे क्या गुज़री वो अनजान क्या जाने;
प्यार किसे कहते है वो नादान क्या जाने;
हवा के साथ उड़ गया घर इस परिंदे का;
कैसे बना था घौंसला वो तूफान क्या जाने।

dil pe kyaa gujri vo anjaan kyaa jaane;
pyaar kise kahte hai vo naadaan kyaa jaane;
havaa ke saath ud gayaa ghar es parinde kaa;

kaise banaa thaa ghaunslaa vo tuphaan kyaa jaane।

आज फिर तेरी याद आयी बारिश को देख कर;
दिल पे ज़ोर न रहा अपनी बेबसी को देख कर;
रोये इस कदर तेरी याद में;
कि बारिश भी थम गयी मेरी बारिश को देख कर।

aaj phir teri yaad aayi baarish ko dekh kar; dil pe jor n rahaa apni bebsi ko dekh kar; roye es kadar teri yaad men; ki baarish bhi tham gayi meri baarish ko dekh kar।

हर सितम सह कर कितने ग़म छिपाये हमने;
तेरी खातिर हर दिन आँसू बहाये हमने;
तू छोड़ गया जहाँ हमें राहों में अकेला;
बस तेरे दिए ज़ख्म हर एक से छिपाए हमने।

har sitam sah kar kitne gm chhipaaye hamne;
teri khaatir har din aansu bahaaye hamne;
tu chhod gayaa jahaan hamen raahon men akelaa;

bas tere dia jkhm har ek se chhipaaa hamne।

कहाँ कोई ऐसा मिला जिस पर हम दुनिया लुटा देते;
हर एक ने धोखा दिया, किस-किस को भुला देते;
अपने दिल का ज़ख्म दिल में ही दबाये रखा;
बयां करते तो महफ़िल को रुला देते।

kahaan koi aisaa milaa jis par ham duniyaa lutaa dete;
har ek ne dhokhaa diyaa, kis-kis ko bhulaa dete;
apne dil kaa jkhm dil men hi dabaaye rakhaa;

bayaan karte to mahfil ko rulaa dete।

कभी कभी मोहब्बत में वादे टूट जाते हैं;
इश्क़ के कच्चे धागे टूट जाते हैं;
झूठ बोलता होगा कभी चाँद भी;
इसलिए तो रुठकर तारे टूट जाते हैं।

kabhi kabhi mohabbat men vaade tut jaate hain; eshk ke kachche dhaage tut jaate hain; jhuth boltaa hogaa kabhi chaand bhi; esalia to ruthakar taare tut jaate hain।


बिछड़ के तुम से ज़िंदगी सज़ा लगती है;
यह साँस भी जैसे मुझ से ख़फ़ा लगती है;
तड़प उठता हूँ दर्द के मारे, ज़ख्मों को जब तेरे शहर की हवा लगती है;
अगर उम्मीद-ए-वफ़ा करूँ तो किस से करूँ;
मुझ को तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफ़ा लगती है।

bichhd ke tum se jindgi sjaa lagti hai;
yah saans bhi jaise mujh se khfaa lagti hai;
tdap uthtaa hun dard ke maare, jkhmon ko jab tere shahar ki havaa lagti hai;
agar ummid-aye-vfaa karun to kis se karun;

mujh ko to meri jindgi bhi bevfaa lagti hai।

हर सितम सह कर कितने गम छिपाए हमने;
तेरी ख़ातिर हर दिन आँसू बहाए हमने;
तू छोड़ गया जहाँ हमें राहों में अकेला;
बस तेरे दिए ज़ख्म हर एक से छिपाए हमने।

har sitam sah kar kitne gam chhipaaa hamne; teri khaatir har din aansu bahaaa hamne; tu chhod gayaa jahaan hamen raahon men akelaa; bas tere dia jkhm har ek se chhipaaa hamne।


रोने की सज़ा न रुलाने की सज़ा है;
ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सज़ा है;
हँसते हैं तो आँखों से निकल आते हैं आँसू;
ये उस शख्स से दिल लगाने की सज़ा है।

rone ki sjaa n rulaane ki sjaa hai; ye dard mohabbat ko nibhaane ki sjaa hai; hnaste hain to aankhon se nikal aate hain aansu; ye us shakhs se dil lagaane ki sjaa hai।

अपनी आँखों के समंदर में उत्तर जाने दे;
तेरा मुज़रिम हूँ मुझे डूब के मर जाने दे;
ज़ख़्म कितने तेरी चाहत से मिले हैं मुझको;
सोचता हूँ कहूँ तुझसे, मगर जाने दे।

apni aankhon ke samandar men uttar jaane de;
teraa mujrim hun mujhe dub ke mar jaane de;
jkhm kitne teri chaahat se mile hain mujhko;

sochtaa hun kahun tujhse, magar jaane de।

वक्त नूर को बेनूर कर देता है;
छोटे से जख्म को नासूर कर देता है;
कौन चाहता है अपनों से दूर होना;
लेकिन वक्त सबको मजबूर कर देता है।

vakt nur ko benur kar detaa hai; chhote se jakhm ko naasur kar detaa hai; kaun chaahtaa hai apnon se dur honaa; lekin vakt sabko majbur kar detaa hai।

इसी से जान गया मैं कि वक़्त ढलने लगे;
मैं थक के छाँव में बैठा और पाँव चलने लगे;
मैं दे रहा था सहारे तो एक हजूम में था;
जो गिर पड़ा तो सभी रास्ता बदलने लगे।

esi se jaan gayaa main ki vkt dhalne lage; main thak ke chhaanv men baithaa aur paanv chalne lage; main de rahaa thaa sahaare to ek hajum men thaa; jo gir pdaa to sabhi raastaa badalne lage।

आज तेरी याद हम सीने से लगा कर रोये;
तन्हाई मैं तुझे हम पास बुला कर रोये;
कई बार पुकारा इस दिल ने तुम्हें;
और हर बार तुम्हें ना पाकर हम रोये।

aaj teri yaad ham sine se lagaa kar roye; tanhaai main tujhe ham paas bulaa kar roye; kayi baar pukaaraa es dil ne tumhen; aur har baar tumhen naa paakar ham roye।

दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता;
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता;
बरबाद हो गए हम उनकी मोहब्बत में;
और वो कहते हैं कि इस तरह प्यार नहीं होता।

dard hai dil men par eskaa ehsaas nahin hotaa; rotaa hai dil jab vo paas nahin hotaa; barbaad ho gaye ham unki mohabbat men; aur vo kahte hain ki es tarah pyaar nahin hotaa।

एक अजीब सा मंजर नज़र आता है;
हर एक आँसूं समंदर नज़र आता है;
कहाँ रखूं मैं शीशे सा दिल अपना;
हर किसी के हाथ मैं पत्थर नज़र आता है।

ek ajib saa manjar njar aataa hai; har ek aansun samandar njar aataa hai; kahaan rakhun main shishe saa dil apnaa; har kisi ke haath main patthar njar aataa hai।


Post a comment

0 Comments