Bewafa shayari in hindi for girlfriend

bewafa shayari in hindi for girlfriend,bewafa shayari,hindi shayari,bewafa shayari in hindi for boyfriend,sad shayari,sad love shayari in hindi for boyfriend,bewafa shayari in hindi,bewafa shayari in hindi for love,shayari,sad love shayari in hindi for girlfriend - hindi shayari,sad shayari in hindi,bewafa status in hindi for whatsapp,hindi shayari video,bewafa shayari hindi
Bewafa shayari in hindi for girlfriend

कांटो सी चुभती है तन्हाई!
अंगारों सी सुलगती है तन्हाई!
कोई आ कर हम दोनों को ज़रा हँसा दे!
मैं रोता हूँ तो रोने लगती है तन्हाई!

kaanto si chubhti hai tanhaai! angaaron si sulagti hai tanhaai! koi aa kar ham donon ko jraa hnsaa de! main rotaa hun to rone lagti hai tanhaai!


उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता है!
जिसे चाहो वही अपने से दूर होता है!
दिल टूटकर बिखरता है इस कदर!
जैसे कोई कांच का खिलौना चूर-चूर होता है!

ulphat kaa aksar yahi dastur hotaa hai! jise chaaho vahi apne se dur hotaa hai! dil tutakar bikhartaa hai es kadar! jaise koi kaanch kaa khilaunaa chur-chur hotaa hai!

दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते!
गम के आंसू न बहते तो और क्या करते!
उसने मांगी थी हमसे रौशनी की दुआ!
हम खुद को न जलाते तो और क्या करते!


dard se haath n milaate to aur kyaa karte!
gam ke aansu n bahte to aur kyaa karte!
usne maangi thi hamse raushni ki duaa!

ham khud ko n jalaate to aur kyaa karte!

वक़्त नूर को बेनूर बना देता है!
छोटे से जख्म को नासूर बना देता है!
कौन चाहता है अपनों से दूर रहना पर वक़्त सबको मजबूर बना देता है!

vakt nur ko benur banaa detaa hai! chhote se jakhm ko naasur banaa detaa hai! kaun chaahtaa hai apnon se dur rahnaa par vakt sabko majbur banaa detaa hai!


दिल में है जो दर्द वो दर्द किसे बताएं!
हंसते हुए ये ज़ख्म किसे दिखाएँ!
कहती है ये दुनिया हमे खुश नसीब!
मगर इस नसीब की दास्ताँ किसे बताएं!

dil men hai jo dard vo dard kise bataaan! hanste hua ye jkhm kise dikhaaan! kahti hai ye duniyaa hame khush nasib! magar es nasib ki daastaan kise bataaan!


वो दर्द ही क्या जो आँखों से बह जाए!
वो खुशी ही क्या जो होठों पर रह जाए!
कभी तो समझो मेरी खामोशी को!
वो बात ही क्या जो लफ्ज़ आसानी से कह जायें!


vo dard hi kyaa jo aankhon se bah jaaa!
vo khushi hi kyaa jo hothon par rah jaaa!
kabhi to samjho meri khaamoshi ko!
vo baat hi kyaa jo laphj aasaani se kah jaayen!



दिल के टूटने से नही होती है आवाज़!
आंसू के बहने का नही होता है अंदाज़!
गम का कभी भी हो सकता है आगाज़!
और दर्द के होने का तो बस होता है एहसास!

dil ke tutne se nahi hoti hai aavaaj! aansu ke bahne kaa nahi hotaa hai andaaj! gam kaa kabhi bhi ho saktaa hai aagaaj! aur dard ke hone kaa to bas hotaa hai ehsaas!


काश यह जालिम जुदाई न होती!
ऐ खुदा तूने यह चीज़ बनायीं न होती!
न हम उनसे मिलते न प्यार होता!
ज़िन्दगी जो अपनी थी वो परायी न होती!

kaash yah jaalim judaai n hoti! ai khudaa tune yah chij banaayin n hoti! n ham unse milte n pyaar hotaa! jindgi jo apni thi vo paraayi n hoti!


तुम्हारे प्यार में हम बैठें हैं चोट खाए!
जिसका हिसाब न हो सके उतने दर्द पाये!
फिर भी तेरे प्यार की कसम खाके कहता हूँ!
हमारे लब पर तुम्हारे लिये सिर्फ दुआ आये!

tumhaare pyaar men ham baithen hain chot khaaa! jiskaa hisaab n ho sake utne dard paaye! phir bhi tere pyaar ki kasam khaake kahtaa hun! hamaare lab par tumhaare liye sirph duaa aaye!


हर वक़्त तेरे आने की आस रहती है!
हर पल तुझसे मिलने की प्यास रहती है!
सब कुछ है यहाँ बस तू नही!
इसलिए शायद ये जिंदगी उदास रहती है!

har vakt tere aane ki aas rahti hai! har pal tujhse milne ki pyaas rahti hai! sab kuchh hai yahaan bas tu nahi! esalia shaayad ye jindgi udaas rahti hai!



सोचा याद न करके थोड़ा तड़पाऊं उनको!
किसी और का नाम लेकर जलाऊं उनको!
पर चोट लगेगी उनको तो दर्द मुझको ही होगा!
अब ये बताओ किस तरह सताऊं उनको!

sochaa yaad n karke thodaa tadpaaun unko! kisi aur kaa naam lekar jalaaun unko! par chot lagegi unko to dard mujhko hi hogaa! ab ye bataao kis tarah sataaun unko!


वो करीब ही न आये तो इज़हार क्या करते!
खुद बने निशाना तो शिकार क्या करते!
मर गए पर खुली रखी आँखें!
इससे ज्यादा किसी का इंतजार क्या करते!

vo karib hi n aaye to ejhaar kyaa karte! khud bane nishaanaa to shikaar kyaa karte! mar gaye par khuli rakhi aankhen! esse jyaadaa kisi kaa entjaar kyaa karte!

न जाने क्यों हमें आँसू बहाना नहीं आता!
न जाने क्यों हाल-ऐ-दिल बताना नहीं आता!
क्यों सब दोस्त बिछड़ गए हमसे!
शायद हमें ही साथ निभाना नहीं आता!

n jaane kyon hamen aansu bahaanaa nahin aataa! n jaane kyon haal-ai-dil bataanaa nahin aataa! kyon sab dost bichhad gaye hamse! shaayad hamen hi saath nibhaanaa nahin aataa!



दिल टूटा तो एक आवाज आई!
चीर के देखा तो कुछ चीज निकल आई!
सोचा क्या होगा इस खली दिल में!
लहू से धो कर देखा, तो तेरी तस्वीर निकल आई!


dil tutaa to ek aavaaj aai!
chir ke dekhaa to kuchh chij nikal aai!
sochaa kyaa hogaa es khali dil men!

lahu se dho kar dekhaa, to teri tasvir nikal aai!

जाने क्या मुझसे ज़माना चाहता है!
मेरा दिल तोड़कर मुझे ही हसाना चाहता है!
जाने क्या बात झलकती है मेरे इस चेहरे से!
हर शख्स मुझे आज़माना चाहता है!

jaane kyaa mujhse jmaanaa chaahtaa hai! meraa dil todakar mujhe hi hasaanaa chaahtaa hai! jaane kyaa baat jhalakti hai mere es chehre se! har shakhs mujhe aajmaanaa chaahtaa hai!


जहाँ खामोश फिजा थी, साया भी न था;
हमसा कोई किस जुर्म में आया भी न था!
न जाने क्यों छिनी गई हमसे हंसी;
हमने तो किसी का दिल दुखाया भी न था!

jahaan khaamosh phijaa thi, saayaa bhi n thaa; hamsaa koi kis jurm men aayaa bhi n thaa! n jaane kyon chhini gayi hamse hansi; hamne to kisi kaa dil dukhaayaa bhi n thaa!


आईना बन के बात करती धूप, दिल की दीवार पर बरसती धूप;
मेरे अन्दर भी धूप का आलम, मेरे बाहर भी रक्स करती धूप!

aainaa ban ke baat karti dhup, dil ki divaar par barasti dhup; mere andar bhi dhup kaa aalam, mere baahar bhi raks karti dhup!

दर्द से दोस्ती हो गई यारो;
जिंदगी बेदर्द हो गई यारो;
क्या हुआ, जो जल गया आशियाना हमारा;
दूर तक रोशनी तो हो गई यारो!

dard se dosti ho gayi yaaro; jindgi bedard ho gayi yaaro; kyaa huaa, jo jal gayaa aashiyaanaa hamaaraa; dur tak roshni to ho gayi yaaro!



कितना दर्द है दिल में दिखाया नहीं जाता;
गंभीर है किस्सा सुनाया नहीं जाता;
एक बार जी भर के देख लो इस चहेरे को;
क्योंकि बार-बार कफ़न उठाया नहीं जाता!

kitnaa dard hai dil men dikhaayaa nahin jaataa; gambhir hai kissaa sunaayaa nahin jaataa; ek baar ji bhar ke dekh lo es chahere ko; kyonki baar-baar kaphan uthaayaa nahin jaataa!


उल्फत में अक्सर ऐसा होता है;
आँखे हंसती हैं और दिल रोता है;
मानते हो तुम जिसे मंजिल अपनी;
हमसफर उनका कोई और होता है!

ulphat men aksar aisaa hotaa hai; aankhe hansti hain aur dil rotaa hai; maante ho tum jise manjil apni; hamasaphar unkaa koi aur hotaa hai!

जब भी करीब आता हूँ बताने के किये;
जिंदगी दूर रखती हैं सताने के लिये!
महफ़िलों की शान न समझना मुझे;
मैं तो अक्सर हँसता हूँ गम छुपाने के लिये!

jab bhi karib aataa hun bataane ke kiye; jindgi dur rakhti hain sataane ke liye! mahfilon ki shaan n samajhnaa mujhe; main to aksar hnastaa hun gam chhupaane ke liye!

इस दिल की दास्ताँ भी बड़ी अजीब होती है;
बड़ी मुस्किल से इसे ख़ुशी नसीब होती है;
किसी के पास आने पर ख़ुशी हो न हो;
पर दूर जाने पर बड़ी तकलीफ होती है!

es dil ki daastaan bhi badi ajib hoti hai; badi muskil se ese khushi nasib hoti hai; kisi ke paas aane par khushi ho n ho; par dur jaane par badi takliph hoti hai!



पास आकर सभी दूर चले जाते हैं;
अकेले थे हम, अकेले ही रह जाते हैं;
इस दिल का दर्द दिखाएँ किसे;
मल्हम लगाने वाले ही जखम दे जाते हैं!

paas aakar sabhi dur chale jaate hain; akele the ham, akele hi rah jaate hain; es dil kaa dard dikhaaan kise; malham lagaane vaale hi jakham de jaate hain!



किसी के दिल का दर्द किसने देखा है;
देखा है, तो सिर्फ चेहरा देखा है;
दर्द तो तन्हाई मे होता है;
लेकिन तन्हाइयो मे लोगों ने हमे हँसते हुए देखा है!


kisi ke dil kaa dard kisne dekhaa hai;
dekhaa hai, to sirph chehraa dekhaa hai;
dard to tanhaai me hotaa hai;

lekin tanhaaeyo me logon ne hame hnaste hua dekhaa hai!


धरती के गम छुपाने के लिए गगन होता है;
दिल के गम छुपाने के लिए बदन होता है;
मर के भी छुपाने होंगे गम शायद;
इसलिए हर लाश पर कफ़न होता है।

dharti ke gam chhupaane ke lia gagan hotaa hai; dil ke gam chhupaane ke lia badan hotaa hai; mar ke bhi chhupaane honge gam shaayad esalia har laash par kaphan hotaa hai।


हादसे इंसान के संग मसखरी करने लगे;
लफ्ज कागज पर उतर जादूगरी करने लगे;
कामयाबी जिसने पाई उनके घर बस गए;
जिनके दिल टूटे वो आशिक शायरी करने लगे।


haadse ensaan ke sang masakhri karne lage;
laphj kaagaj par utar jaadusri karne lage;
okaamyaabi jisne paai unke ghar bas gaye;

jinke dil tute vo aashik shaayri karne lage।


बिन बात के ही रूठने की आदत है;
किसी अपने का साथ पाने की चाहत है;
आप खुश रहें, मेरा क्या है;
मैं तो आइना हूँ, मुझे तो टूटने की आदत है!

bin baat ke hi ruthne ki aadat hai; kisi apne kaa saath paane ki chaahat hai; aap khush rahen, meraa kyaa hai; main to aaenaa hun, mujhe to tutne ki aadat hai!

Post a comment

0 Comments