Bewafa Shayari in Hindi | बेवफा शायरी हिंदी में

Bewafa shayari in hindi,bewafa shayari,bewafa shayari in hindi for girlfriend,heart touching bewafa shayari in hindi,hindi shayari,sad bewafa shayari in hindi,bewafa shayari video,emotional shayari in hindi,bewafa poetry in hindi,sad shayari,shayari,bewafa shayari hindi,painful shayari in hindi,dard bhari shayari in hindi for love,sad bewafa shayari,bewafa,sad shayari in hindi,shayari hindi.

Bewafa Shayari in Hindi 



मेरी मौत के सबब आप बने;
इस दिल के रब आप बने;
पहले मिसाल थे वफ़ा की;
जाने यूँ बेवफ़ा कब आप बने।

meri maut ke sabab aap bane; es dil ke rab aap bane; pahle misaal the vfaa ki; jaane yun bevfaa kab aap bane।


एक तेरी खातिर परेशाँ हूँ मैं;
टूटे दिलों की जुबाँ हूँ मैं;
तूने ठुकराया जिसको अपनाकर;
उसी दीवाने का गुमां हूँ मैं।

ek teri khaatir pareshaan hun main; tute dilon ki jubaan hun main; tune thukraayaa jisko apnaakar; usi divaane kaa gumaan hun main।


खुदा तू ही बता हमारा क्या होगा;
उजड़े हुए दिल का सहारा क्या होगा;
घबराहट होती है मोहब्बत की नाव में बैठ कर;
गर मझदार ये तो किनारा क्या होगा।

khudaa tu hi bataa hamaaraa kyaa hogaa; ujde hua dil kaa sahaaraa kyaa hogaa; ghabraahat hoti hai mohabbat ki naav men baith kar; gar majhdaar ye to kinaaraa kyaa hogaa।



तुमको समझाता हूँ इसलिए ए दोस्त;
क्योंकि सबको ही आज़मा चुका हूँ मैं;
कहीं तुमको भी पछताना ना पड़े यहाँ;
कई हसीनों से धोखा खा चुका हूँ मैं।


tumko samjhaataa hun esalia aye dost;
kyonki sabko hi aajmaa chukaa hun main;
kahin tumko bhi pachhtaanaa naa pde yahaan;

kayi hasinon se dhokhaa khaa chukaa hun main।



बिखरे हुए दिल ने भी उसके लिए फरियाद मांगी;
मेरी साँसों ने भी हर पल उसकी ख़ुशी मांगी;
जाने क्या मोहब्बत थी उस बेवफ़ा में;
कि मैंने आखिरी फरियाद में भी उनकी वफ़ा मांगी।


bikhre hua dil ne bhi uske lia phariyaad maangi;
meri saanson ne bhi har pal uski khushi maangi;
jaane kyaa mohabbat thi us bevfaa men;

ki mainne aakhiri phariyaad men bhi unki vfaa maangi।



मज़बूरी में जब कोई जुदा होता है;
ज़रूरी नहीं कि वो बेवफ़ा होता है;
देकर वो आपकी आँखों में आँसू;
अकेले में वो आपसे ज्यादा रोता है।

mjburi men jab koi judaa hotaa hai;
jruri nahin ki vo bevfaa hotaa hai;
dekar vo aapki aankhon men aansu;

akele men vo aapse jyaadaa rotaa hai।


कभी हम भी इसके क़रीब थे​;
​​दिलो जान से बढ़ कर अज़ीज थे​;​
​​मगर आज ऐसे मिला है वो​;​
​कभी पहले जैसे मिला ना हो​।

kabhi ham bhi eske krib the​; ​​dilo jaan se badh kar ajij the​;​ ​​magar aaj aise milaa hai vo​;​ ​kbhi pahle jaise milaa naa ho​।


ज़ख़्म जब मेरे सिने के भर जाएँगे;
आँसू भी मोती बनकर बिखर जाएँगे;
ये मत पूछना किस किस ने धोखा दिया;
वरना कुछ अपनो के चेहरे उतर जाएँगे।


jakhm jab mere sine ke bhar jaaange;
aansu bhi moti banakar bikhar jaaange;
ye mat puchhnaa kis kis ne dhokhaa diyaa;

varnaa kuchh apno ke chehre utar jaaange।


चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये है​;​​
इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये है​;​​
महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश​;​​
जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये है।

chehron ke lia aaine kurbaan kiye hai​;​​ es shauk men apne bade nuksaan kiye hai​;​​ mahaphil men mujhe gaaliyaan dekar hai bahut khush​;​​ jis shakhs par mainne bade ehsaan kiye hai।


जीने की तमन्ना बची कहाँ है;
भुलाया जो है हमें आपने;
यह तो बेवफ़ाई की हद ही है;
जिसे पार किया था हमने।

jine ki tamannaa bachi kahaan hai; bhulaayaa jo hai hamen aapne; yah to bevfaai ki had hi hai; jise paar kiyaa thaa hamne।


फ़र्ज़ था जो मेरा निभा दिया मैंने;
उसने माँगा वो सब दे दिया मैंने;
वो सुनके गैरों की बातें बेवफ़ा हो गयी;
समझ के ख्वाब उसको आखिर भुला दिया मैंने।

frj thaa jo meraa nibhaa diyaa mainne; usne maangaa vo sab de diyaa mainne; vo sunke gairon ki baaten bevfaa ho gayi; samajh ke khvaab usko aakhir bhulaa diyaa mainne।


ना मिलता गम तो बर्बादी के अफसाने कहाँ जाते;
दुनिया अगर होती चमन तो वीराने कहाँ जाते;
चलो अच्छा हुआ अपनों में कोई ग़ैर तो निकला;
सभी अगर अपने होते तो बेगाने कहाँ जाते।

naa miltaa gam to barbaadi ke aphsaane kahaan jaate;
duniyaa agar hoti chaman to viraane kahaan jaate;
chalo achchhaa huaa apnon men koi gair to niklaa;
sabhi agar apne hote to begaane kahaan jaate।



लम्हा लम्हा सांसें ख़तम हो रही हैं;
ज़िंदगी मौत के पहलू में सो रही है;
उस बेवफा से ना पूछो मेरी मौत की वजह;
वो तो ज़माने को दिखाने के लिए रो रही है।

lamhaa lamhaa saansen khtam ho rahi hain; jindgi maut ke pahlu men so rahi hai; us bevphaa se naa puchho meri maut ki vajah; vo to jmaane ko dikhaane ke lia ro rahi hai।


वफ़ा पर हमने घर लुटाना था लेकिन;
वफ़ा लौट गयी लुटाने से पहले;
चिराग तमन्ना का जला तो दिया था;
मगर बुझ गया जगमगाने से पहले।


vfaa par hamne ghar lutaanaa thaa lekin;
vfaa laut gayi lutaane se pahle;
chiraag tamannaa kaa jalaa to diyaa thaa;

magar bujh gayaa jagamgaane se pahle।


सब कुछ है मेरे पास पर दिल की दवा नहीं;
दूर है वो मुझसे पर मैं उससे ख़फ़ा नहीं;
मालूम है कि वो अब भी प्यार करता है मुझसे;
वो थोड़ा सा ज़िद्दी है मगर बेवफ़ा नहीं।

sab kuchh hai mere paas par dil ki davaa nahin; dur hai vo mujhse par main usse khfaa nahin; maalum hai ki vo ab bhi pyaar kartaa hai mujhse; vo thodaa saa jiddi hai magar bevfaa nahin।


ना पूछ मेरे सब्र की इंतेहा कहाँ तक है;
कर ले तू सितम, तेरी हसरत जहाँ तक है;
वफ़ा की उम्मीद, जिन्हें होगी उन्हें होगी;
हमें तो देखना है तू बेवफ़ा कहाँ तक है।

naa puchh mere sabr ki entehaa kahaan tak hai; kar le tu sitam, teri hasarat jahaan tak hai; vaphaa ki ummid, jinhen hogi unhen hogi; hamen to dekhnaa hai tu bevaphaa kahaan tak hai।

Post a comment

0 Comments