Bewafa shayari in hindi | बेवफा शायरी हिन्दी में

bewafa shayari in hindi,bewafa shayari in hindi for girlfriend,bewafa shayari,bewafa shayari video,bewafa shayari in hindi for boyfriend,heart touching bewafa shayari in hindi,bewafa shayari hindi,sad shayari in hindi,sad shayari,sad bewafa shayari in hindi,shayari,breakup shayari hindi,hindi shayari,sad bewafa shayari,painful shayari in hindi,emotional shayari in hindi,bewafa poetry in hindi
Bewafa shayari in hindi | बेवफा शायरी हिन्दी में



उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता है;
जिसे चाहो वही अपने से दूर होता है;
दिल टूटकर बिखरता है इस कदर;
जैसे कोई कांच का खिलौना चूर-चूर होता है!


ulphat kaa aksar yahi dastur hotaa hai;
jise chaaho vahi apne se dur hotaa hai;
dil tutakar bikhartaa hai es kadar;

jaise koi kaanch kaa khilaunaa chur-chur hotaa hai!

अपने सीने से लगाए हुए उम्मीद की लाश;
मुद्दतों जीस्त को नाशाद किया है मैंने;
तूने तो एक ही सदमे से किया था दो-चार;
दिल को हर तरह से बर्बाद किया है मैंने!

apne sine se lagaaa hua ummid ki laash; muddton jist ko naashaad kiyaa hai mainne; tune to ek hi sadme se kiyaa thaa do-chaar; dil ko har tarah se barbaad kiyaa hai mainne!


हर बात में आंसू बहाया नहीं करते;
दिल की बात हर किसी को बताया नहीं करते;
लोग मुट्ठी में नमक लेके घूमते है;
दिल के जख्म हर किसी को दिखाया नहीं करते।

har baat men aansu bahaayaa nahin karte; dil ki baat har kisi ko bataayaa nahin karte; log mutthi men namak leke ghumte hai; dil ke jakhm har kisi ko dikhaayaa nahin karte।


जो मेरा था वो मेरा हो नहीं पाया;
आँखों में आंसू भरे थे पर मैं रो नहीं पाया;
एक दिन उन्होंने मुझसे कहा कि;
हम मिलेंगे ख़्वाबों में पर मेरी बदकिस्मती तो देखिये;
उस रात तो मैं ख़ुशी के मारे सो भी नहीं पाया।

jo meraa thaa vo meraa ho nahin paayaa; aankhon men aansu bhare the par main ro nahin paayaa; ek din unhonne mujhse kahaa ki; ham milenge khvaabon men par meri badakismti to dekhiye; us raat to main khushi ke maare so bhi nahin paayaa।


एक दिन जब हुआ प्यार का अहसास उन्हें;
वो सारा दिन आकर हमारे पास रोते रहे;
और हम भी इतने खुद गर्ज़ निकले यारों कि;
आँखे बंद कर के कफ़न में सोते रहे।

ek din jab huaa pyaar kaa ahsaas unhen; vo saaraa din aakar hamaare paas rote rahe; aur ham bhi etne khud garj nikle yaaron ki; aankhe band kar ke kfan men sote rahe।


कभी दूर जा के रोये कभी पास आके रोये;
हमें रुलाने वाले हमें रुला के रोये;
मरने को तो मरते हैं सभी यारों;
पर मरने का तो मजा ही तब है;
जो दुश्मन भी जनाजे पे आ के रोये।

kabhi dur jaa ke roye kabhi paas aake roye; hamen rulaane vaale hamen rulaa ke roye; marne ko to marte hain sabhi yaaron; par marne kaa to majaa hi tab hai; jo dushman bhi janaaje pe aa ke roye।


दर्द से दोस्ती हो गई यारों;
जिंदगी बे दर्द हो गई यारों;
क्या हुआ जो जल गया आशियाना हमारा;
दूर तक रोशनी तो हो गई यारो।

dard se dosti ho gayi yaaron; jindgi be dard ho gayi yaaron; kyaa huaa jo jal gayaa aashiyaanaa hamaaraa; dur tak roshni to ho gayi yaaro।


आँसू गिरने की आहट नही होती;
दिल के टूटने की आवाज नहीं होती;
गर होता उन्हें एहसास दर्द का;
तो दर्द देने की उन्हें आदत नहीं होती।


aansu girne ki aahat nahi hoti;
dil ke tutne ki aavaaj nahin hoti;
gar hotaa unhen ehsaas dard kaa;

to dard dene ki unhen aadat nahin hoti।


कोई समझता नहीं उसे इसका गम नहीं करता;
पर तेरे नजरंदाज करने पर हल्का सा मुस्कुरा देता है;
उसकी हंसी में छुपे दर्द को महसूस तो कर;
वो तो हंस के यूँ ही खुद को सजा देता है।


koi samajhtaa nahin use eskaa gam nahin kartaa;
par tere najarandaaj karne par halkaa saa muskuraa detaa hai;
uski hansi men chhupe dard ko mahsus to kar;

vo to hans ke yun hi khud ko sajaa detaa hai।

कितना दर्द है दिल में दिखाया नहीं जाता;
गंभीर है किस्सा सुनाया नहीं जाता;
एक बार जी भर के देख लो इस चहेरे को;
क्योंकि बार-बार कफ़न उठाया नहीं जाता।

kitnaa dard hai dil men dikhaayaa nahin jaataa; gambhir hai kissaa sunaayaa nahin jaataa; ek baar ji bhar ke dekh lo es chahere ko; kyonki baar-baar kfan uthaayaa nahin jaataa।


आज आपके प्यार में कमी देखी;
चाँद की चांदनी में कुछ नमी देखी;
उदास होकर लौट आए हम;
जब महफ़िल आपकी गैरों से सजी देखी।

aaj aapke pyaar men kami dekhi; chaand ki chaandni men kuchh nami dekhi; udaas hokar laut aaa ham; jab mahfil aapki gairon se saji dekhi।


ना पूछ मेरे सब्र की इंतेहा कहाँ तक है;
तु सितम कर ले, तेरी हसरत जहाँ तक है;
वफ़ा की उम्मीद, जिन्हें होगी उन्हें होगी;
हमें तो देखना है कि तु बेवफ़ा कहाँ तक है।

naa puchh mere sabr ki entehaa kahaan tak hai; tu sitam kar le, teri hasarat jahaan tak hai; vaphaa ki ummid, jinhen hogi unhen hogi; hamen to dekhnaa hai ki tu bevaphaa kahaan tak hai।


आँखों में रहा दिल में उतर कर ना देखा;
कश्ती के मुसाफिर ने समंदर ना देखा;
पत्थर मुझे कहता है मुझे चाहने वाला;
मैं मोम हूँ उसने मुझे छु कर ना देखा।


aankhon men rahaa dil men utar kar naa dekhaa;
kashti ke musaaphir ne samandar naa dekhaa;
patthar mujhe kahtaa hai mujhe chaahne vaalaa;

main mom hun usne mujhe chhu kar naa dekhaa।


मुझको ऐसा दर्द मिला जिसकी दवा नहीं;​
​फिर भी खुश हूँ मुझे उस से कोई गिला नहीं​;
​​और कितने आंसू बहाऊँ उस के लिए​;
​​जिसको खुदा ने मेरे नसीब में लिखा ही नहीं।

mujhko aisaa dard milaa jiski davaa nahin;​ ​phir bhi khush hun mujhe us se koi gilaa nahin​; ​​aur kitne aansu bahaaun us ke lia​; ​​jisko khudaa ne mere nasib men likhaa hi nahin।


मेरा ख़याल ज़ेहन से मिटा भी न सकोगे;
एक बार जो तुम मेरे गम से मिलोगे;
तो सारी उम्र मुस्करा न सकोगे।


meraa khyaal jehan se mitaa bhi n sakoge;
ek baar jo tum mere gam se miloge;

to saari umr muskraa n sakoge।

बेखुदी ले गई कहाँ हमको;
देर से इंतज़ार है अपना;
रोते फिरते हैं सारी-सारी रात;
अब यही बस रोज़गार है अपना।

bekhudi le gayi kahaan hamko; der se entjaar hai apnaa; rote phirte hain saari-saari raat; ab yahi bas rojgaar hai apnaa।


नया दर्द एक और दिल में जगा कर चला गया​;​
​​ कल फिर वो मेरे शहर में आकर चला गया​;​
​​ जिसे ढूंढ़ता रहा मैं लोगों ​की भीड़ में;​
​​ मुझसे वो अप​ने आप ​को छुपा कर चला गया।

nayaa dard ek aur dil men jagaa kar chalaa gayaa​;​ ​​ kal phir vo mere shahar men aakar chalaa gayaa​;​ ​​ jise dhundhtaa rahaa main logon ​ki bhid men;​ ​​ mujhse vo ap​ne aap ​ko chhupaa kar chalaa gayaa।


दर्द की महफ़िल में एक शेयर हम भी अर्ज़ किया करते हैं;
न किसी से मरहम न, दुआओं कि उम्मीद किया करते हैं;
कई चेहरे लेकर लोग यहाँ जिया करते हैं;
हम इन आँसुओं को एक चेहरे के लिए पिया करते हैं|


dard ki mahfil men ek sheyar ham bhi arj kiyaa karte hain;
n kisi se maraham n, duaaon ki ummid kiyaa karte hain;
kayi chehre lekar log yahaan jiyaa karte hain;

ham en aansuon ko ek chehre ke lia piyaa karte hain|


तेरी आरज़ू मेरा ख्वाब है;
जिसका रास्ता बहुत खराब है;
मेरे ज़ख्म का अंदाज़ा न लगा;
दिल का हर पन्ना दर्द की किताब है।

teri aarju meraa khvaab hai; jiskaa raastaa bahut kharaab hai; mere jkhm kaa andaajaa n lagaa; dil kaa har pannaa dard ki kitaab hai

Post a comment

0 Comments