बेवफा शायरी । bewafa shayari in hindi for love

Lots of you unfaithful shayari here friends. bewafa shayari in hindi for love. If you like it, then you must share it with friends. Bewafa poetry. Bewafa shayari in hindi for love, bewafa shayari for girlfriend in hindi, bewafa shayari in hindi and hindi bewafa shayari, images for bewafa shayari in hindi for love You will get many more images of bewafa shayari and bewafa shayari image together.

Hindi shayari bewafa sanam | Bewafa shayari hindi mein


bewafa shayari in hindi for love

मेरी रातों की राहत, दिन के इत्मिनान ले जाना;
तुम्हारे काम आ जायेगा, यह सामान ले जाना;
तुम्हारे बाद क्या रखना अना से वास्ता कोई;
तुम अपने साथ मेरा उम्र भर का मान ले जाना।

meri raaton ki raahat, din ke etminaan le jaanaa;
tumhaare kaam aa jaayegaa, yah saamaan le jaanaa;
tumhaare baad kyaa rakhnaa anaa se vaastaa koi;
tum apne saath meraa umr bhar kaa maan le jaanaa।



एक खिलौना टूट जाएगा नया मिल जाएगा;
मैं नहीं तो कोई तुझ को दूसरा मिल जाएगा;
भागता हूँ हर तरफ़ ऐसे हवा के साथ साथ;
जिस तरह सच मुच मुझे उस का पता मिल जाएगा।


ek khilaunaa tut jaaagaa nayaa mil jaaagaa;
main nahin to koi tujh ko dusraa mil jaaagaa;
bhaagtaa hun har taraph aise havaa ke saath saath;

jis tarah sach much mujhe us kaa pataa mil jaaagaa।



खुलेगी इस नज़र पे चश्म-ए-तर आहिस्ता आहिस्ता;
किया जाता है पानी में सफ़र आहिस्ता आहिस्ता;
कोई ज़ंजीर फिर वापस वहीं पर ले के आती है;
कठिन हो राह तो छूटता है घर आहिस्ता आहिस्ता।

khulegi es najar pe chashm-aye-tar aahistaa aahistaa; kiyaa jaataa hai paani men saphar aahistaa aahistaa; koi janjir phir vaapas vahin par le ke aati hai; kathin ho raah to chhuttaa hai ghar aahistaa aahistaa।


अपनी यादें अपनी बातें लेकर जाना भूल गये;
जाने वाले जल्दी में मिलकर जाना भूल गये;
मुड़-मुड़ कर देखा था जाते वक़्त रास्ते में उन्होंने;
जैसे कुछ जरुरी था, जो वो हमें बताना भूल गये;
वक़्त-ए-रुखसत भी रो रहा था हमारी बेबसी पर;
उनके आंसू तो वहीं रह गये, वो बाहर ही आना भूल गये।

apni yaaden apni baaten lekar jaanaa bhul gaye; jaane vaale jaldi men milakar jaanaa bhul gaye; mud-mud kar dekhaa thaa jaate vkt raaste men unhonne; jaise kuchh jaruri thaa, jo vo hamen bataanaa bhul gaye; vkt-aye-rukhasat bhi ro rahaa thaa hamaari bebsi par; unke aansu to vahin rah gaye, vo baahar hi aanaa bhul gaye।


बेनाम सा यह दर्द ठहर क्यों नही जाता;
जो बीत गया है वो गुज़र क्यों नही जाता;
वो एक ही चेहरा तो नही सारे जहाँ मैं;
जो दूर है वो दिल से उतर क्यों नही जाता।


benaam saa yah dard thahar kyon nahi jaataa;
jo bit gayaa hai vo gujar kyon nahi jaataa;
vo ek hi chehraa to nahi saare jahaan main;

jo dur hai vo dil se utar kyon nahi jaataa।



आओ किसी शब मुझे टूट के बिखरता देखो;
मेरी रगों में ज़हर जुदाई का उतरता देखो;
किस किस अदा से तुझे माँगा है खुदा से;
आओ कभी मुझे सजदों में सिसकता देखो।


aao kisi shab mujhe tut ke bikhartaa dekho;
meri ragon men jhar judaai kaa utartaa dekho;
kis kis adaa se tujhe maangaa hai khudaa se;

aao kabhi mujhe sajdon men sisaktaa dekho।



फुर्सत किसे है ज़ख्मों को सरहाने की;
निगाहें बदल जाती हैं अपने बेगानों की;
तुम भी छोड़कर चले गए हमें;
अब तम्मना न रही किसी से दिल लगाने की।

phursat kise hai jkhmon ko sarhaane ki; nigaahen badal jaati hain apne begaanon ki; tum bhi chhodkar chale gaye hamen; ab tammnaa n rahi kisi se dil lagaane ki।



जब रूह किसी बोझ से थक जाती है;
एहसास की लौ और भी बढ़ जाती है;
मैं बढ़ता हूँ ज़िन्दगी की तरफ लेकिन;
ज़ंजीर सी पाँव में छनक जाती है।


jab ruh kisi bojh se thak jaati hai;
ehsaas ki lau aur bhi bdh jaati hai;
main bdhtaa hun jindgi ki taraph lekin;

jnjir si paanv men chhanak jaati hai।



दिल की हालात बताई नहीं जाती;
हमसे उनकी चाहत छुपाई नहीं जाती;
बस एक याद बची है उनके चले जाने के बाद;
हमसे तो वो याद भी दिल से निकाली नहीं जाती।


dil ki haalaat bataai nahin jaati;
hamse unki chaahat chhupaai nahin jaati;
bas ek yaad bachi hai unke chale jaane ke baad;

hamse to vo yaad bhi dil se nikaali nahin jaati।


उन गलियों से जब गुज़रे तो मंज़र अजीब था;
दर्द था मगर वो दिल के करीब था;
जिसे हम ढूँढ़ते थे अपनी हाथों की लकीरों में;
वो किसी दूसरे की किस्मत किसी और का नसीब था।


un galiyon se jab gujre to manjr ajib thaa;
dard thaa magar vo dil ke karib thaa;
jise ham dhundhte the apni haathon ki lakiron men;

vo kisi dusre ki kismat kisi aur kaa nasib thaa।


निकले हम कहाँ से और किधर निकले;
हर मोड़ पे चौंकाए ऐसा अपना सफ़र निकले;
तूने समझाया क्या रो-रो के अपनी बात;
तेरे हमदर्द भी लेकिन बड़े बे-असर निकले।


nikle ham kahaan se aur kidhar nikle;
har mod pe chaunkaaa aisaa apnaa sfar nikle;
tune samjhaayaa kyaa ro-ro ke apni baat;

tere hamadard bhi lekin bde be-asar nikle।


लगता नहीं है दिल मेरा उजड़े दयार में;
किसकी बनी है आलम-ए-ना पैदार में;
कह दो इन हसरतों से कहीं और जा बसें;
इतनी जगह कहाँ है दिल-ए-दागदार में।


lagtaa nahin hai dil meraa ujde dayaar men;
kiski bani hai aalam-aye-naa paidaar men;
kah do en hasarton se kahin aur jaa basen;

etni jagah kahaan hai dil-aye-daagdaar men।



दर्द दे गए सितम भी दे गए;
ज़ख़्म के साथ वो मरहम भी दे गए;
दो लफ़्ज़ों से कर गए अपना मन हल्का;
और हमें कभी ना रोने की कसम दे गए।


dard de gaye sitam bhi de gaye;
jkhm ke saath vo maraham bhi de gaye;
do lfjon se kar gaye apnaa man halkaa;

aur hamen kabhi naa rone ki kasam de gaye।


साँस थम जाती है पर जान नहीं जाती;
दर्द होता है पर आवाज़ नहीं आती;
अजीब लोग हैं इस ज़माने में ऐ दोस्त;
कोई भूल नहीं पाता और किसी को याद नहीं आती।


saans tham jaati hai par jaan nahin jaati;
dard hotaa hai par aavaaj nahin aati;
ajib log hain es jmaane men ai dost;

koi bhul nahin paataa aur kisi ko yaad nahin aati।


वो नाराज़ हैं हमसे कि हम कुछ लिखते नहीं;
कहाँ से लाएं लफ्ज़ जब हमको मिलते नहीं;
दर्द की ज़ुबान होती तो बता देते शायद;
वो ज़ख्म कैसे दिखाए जो दिखते नहीं।


vo naaraaj hain hamse ki ham kuchh likhte nahin;
kahaan se laaan laphj jab hamko milte nahin;
dard ki jubaan hoti to bataa dete shaayad;

vo jkhm kaise dikhaaa jo dikhte nahin।


रोते रहे तुम भी, रोते रहे हम भी;
कहते रहे तुम भी और कहते रहे हम भी;
ना जाने इस ज़माने को हमारे इश्क़ से क्या नाराज़गी थी;
बस समझाते रहे तुम भी और समझाते रहे हम भी।


rote rahe tum bhi, rote rahe ham bhi;
kahte rahe tum bhi aur kahte rahe ham bhi;
naa jaane es jmaane ko hamaare eshk se kyaa naaraajgi thi;

bas samjhaate rahe tum bhi aur samjhaate rahe ham bhi।


सब कुछ मिला सुकून की दौलत न मिली;
एक तुझको भूल जाने की मोहलत न मिली;
करने को बहुत काम थे अपने लिए मगर;
हमको तेरे ख्याल से कभी फुर्सत न मिली।


sab kuchh milaa sukun ki daulat n mili;
ek tujhko bhul jaane ki mohalat n mili;
karne ko bahut kaam the apne lia magar;

hamko tere khyaal se kabhi phursat n mili।

मोहब्बत में किसी का इंतजार मत करना;
हो सके तो किसी से प्यार मत करना;
कुछ नहीं मिलता मोहब्बत कर के;
खुद की ज़िन्दगी बेकार मत करना।

mohabbat men kisi kaa entjaar mat karnaa;
ho sake to kisi se pyaar mat karnaa;
kuchh nahin miltaa mohabbat kar ke;

khud ki jindgi bekaar mat karnaa।


एक पल में ज़िन्दगी भर की उदासी दे गया;
वो जुदा होते हुए कुछ फूल बासी दे गया;
नोच कर शाखों के तन से खुश्क पत्तों का लिबास;
ज़र्द मौसम बाँझ रुत को बे-लिबासी दे गया।

ek pal men jindgi bhar ki udaasi de gayaa; vo judaa hote hua kuchh phul baasi de gayaa; noch kar shaakhon ke tan se khushk patton kaa libaas; jrd mausam baanjh rut ko be-libaasi de gayaa।

Post a comment

0 Comments