Dard bhari shayari in hindi | dard Shayari | दर्द शायरी




चीज़ बेवफ़ाई से बढ़कर क्या होगी;
ग़म-ए-हालात जुदाई से बढ़कर क्या होगी;
जिसे देनी हो सज़ा उम्र भर के लिए;
सज़ा तन्हाई से बढ़कर क्या होगी।

chij bevfaai se bdhakar kyaa hogi;
gm-aye-haalaat judaai se bdhakar kyaa hogi;
jise deni ho sjaa umr bhar ke lia;
sjaa tanhaai se bdhakar kyaa hogi।

टूटा हो दिल तो दुःख होता है;
करके मोहब्बत किसी से ये दिल रोता है;
दर्द का एहसास तो तब होता है;
जब किसी से मोहब्बत हो और उसके दिल में कोई और होता है

tutaa ho dil to duahkh hotaa hai; karke mohabbat kisi se ye dil rotaa hai; dard kaa ehsaas to tab hotaa hai; jab kisi se mohabbat ho aur uske dil men koi aur hotaa hai


ज़ख्म जब मेरे सीने के भर जाएंगे;
आंसू भी मोती बन के बिखर जाएंगे;
ये मत पूछना किसने दर्द दिया;
वरना कुछ अपनों के सर झुक जाएंगे।

jkhm jab mere sine ke bhar jaaange; aansu bhi moti ban ke bikhar jaaange; ye mat puchhnaa kisne dard diyaa; varnaa kuchh apnon ke sar jhuk jaaange।


किया इश्क़ ने मेरा हाल कुछ ऐसा;
ना अपनी खबर ना ही दिल का पता है;
कसूरवार थी मेरी ये दौर-ए-जवानी;
मैं समझता रहा सनम की खता है।

kiyaa eshk ne meraa haal kuchh aisaa; naa apni khabar naa hi dil kaa pataa hai; kasurvaar thi meri ye daur-aye-javaani; main samajhtaa rahaa sanam ki khataa hai।


ग़म के दरियाओं से मिलकर बना है यह सागर;
आप क्यों इसमें समाने की कोशिश करते हो;
कुछ नहीं है और इस जीवन में दर्द के सिवा;
आप क्यों इस ज़िंदगी में आने की कोशिश करते हो।

gm ke dariyaaon se milakar banaa hai yah saagar; aap kyon esmen samaane ki koshish karte ho; kuchh nahin hai aur es jivan men dard ke sivaa; aap kyon es jindgi men aane ki koshish karte ho।



मोहब्बत करने वालों का यही हश्र होता है;
दर्द-ए-दिल होता है, दर्द-ए-जिगर होता है;
बंद होंठ कुछ ना कुछ गुनगुनाते ही रहते हैं;
खामोश निगाहों का भी गहरा असर होता है।

mohabbat karne vaalon kaa yahi hashr hotaa hai; dard-aye-dil hotaa hai, dard-aye-jigar hotaa hai; band honth kuchh naa kuchh gunagunaate hi rahte hain; khaamosh nigaahon kaa bhi gahraa asar hotaa hai।


​शहर क्या देखें, के हर मंज़र में जाले पड़ गए​;​
ऐसी गर्मी है, कि पीले फूल काले पड़ गए​;​
मैं अँधेरों से बचा लाया था अपने आप को​;​
मेरा दुख ये है, मेरे पीछे उजाले पड़ गए।

shahar kyaa dekhen, ke har manjar men jaale pad ga​;​ aisi garmi hai, ki pile phul kaale pad ga​;​ main andheron se bachaa laayaa thaa apne aap ko​;​ meraa dukh ye hai, mere pichhe ujaale pad gaye।


हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे हैं हम;
हर दर्द के निशान मिटाने लगे हैं हम;
अब और कोई ज़ुल्म सताएगा क्या भला;
ज़ुल्मों सितम को अब तो सताने लगे हैं हम।

hnaste hua jkhmon ko bhulaane lage hain ham; har dard ke nishaan mitaane lage hain ham; ab aur koi julm sataaagaa kyaa bhalaa; julmon sitam ko ab to sataane lage hain ham।


तेरी यादों के सितम सहते हैं हम;
आज भी पल-पल तेरी यादों में मरते हैं हम;
तुम तो चले गए बहुत दूर, हमको इस दुनियां में तन्हा छोड़कर;
पर तुम क्या जानो, बैठकर तन्हाई में किस कदर रोते हैं हम।

teri yaadon ke sitam sahte hain ham; aaj bhi pal-pal teri yaadon men marte hain ham; tum to chale gaye bahut dur, hamko es duniyaan men tanhaa chhodkar; par tum kyaa jaano, baithakar tanhaai men kis kadar rote hain ham।


उल्फत का यह दस्तूर होता है;
जिसे चाहो वही हमसे दूर होता है;
दिल टूट कर बिखरता है इस क़द्र जैसे;
कांच का खिलौना गिरके चूर-चूर होता है!

ulphat kaa yah dastur hotaa hai; jise chaaho vahi hamse dur hotaa hai; dil tut kar bikhartaa hai es kdr jaise; kaanch kaa khilaunaa girke chur-chur hotaa hai!


सबने कहा इश्क़ दर्द है;
हमने कहा यह दर्द भी क़बूल है;
सबने कहा इस दर्द के साथ जी नहीं पाओगे;
हमने कहा इस दर्द के साथ मरना भी क़बूल है।

sabne kahaa eshk dard hai; hamne kahaa yah dard bhi kbul hai; sabne kahaa es dard ke saath ji nahin paaoge; hamne kahaa es dard ke saath marnaa bhi kbul hai।


दोस्ती जब किसी से की जाये तो दुश्मनों की भी राय ली जाये;
मौत का ज़हर है फिज़ाओं में अब कहाँ जा कर सांस ली जाये;
बस इसी सोच में हूँ डूबा हुआ कि ये नदी कैसे पार की जाये;
मेरे माज़ी के ज़ख़्म भरने लगे हैं आज फिर कोई भूल की जाये।

dosti jab kisi se ki jaaye to dushmnon ki bhi raay li jaaye; maut kaa jhar hai phijaaon men ab kahaan jaa kar saans li jaaye; bas esi soch men hun dubaa huaa ki ye nadi kaise paar ki jaaye; mere maaji ke jkhm bharne lage hain aaj phir koi bhul ki jaaye।


जो नजर से गुजर जाया करते हैं;
वो सितारे अक्सर टूट जाया करते हैं;
कुछ लोग दर्द को बयां नहीं होने देते,
बस चुपचाप बिखर जाया करते हैं।

jo najar se gujar jaayaa karte hain; vo sitaare aksar tut jaayaa karte hain; kuchh log dard ko bayaan nahin hone dete, bas chupchaap bikhar jaayaa karte hain।

Post a comment

0 Comments