Love Shayari in hindi | प्यार भरी हिंदी में

Love Shayari in hindi |  प्यार भरी हिंदी में
Love Shayari in hindi 


वफा के बदले बेवफाई ना दिया करो;
मेरी उम्मीद ठुकरा कर इंकार ना किया करो;
तेरी मोहब्बत में हम सब कुछ खो बैठे;
जान चली जायेगी इम्तिहान ना लिया करो।

vaphaa ke badle bevphaai naa diyaa karo; meri ummid thukraa kar enkaar naa kiyaa karo; teri mohabbat men ham sab kuchh kho baithe; jaan chali jaayegi emtihaan naa liyaa karo।


खुशबू ने फूल को एक अहसास बनाया;
फूल ने बाग को कुछ खास बनाया;
चाहत ने मोहब्बत को एक प्यास बनाया;
और इस मोहब्बत ने एक और देवदास बनाया।

khushbu ne phul ko ek ahsaas banaayaa; phul ne baag ko kuchh khaas banaayaa; chaahat ne mohabbat ko ek pyaas banaayaa; aur es mohabbat ne ek aur devdaas banaayaa।



आँखों में आंसुओं की लकीर बन गई;
जैसी चाहिए थी वैसी तकदीर बन गई;
हमने तो सिर्फ रेत में उंगलियाँ घुमाई थी;
गौर से देखा तो आपकी तस्वीर बन गई।

aankhon men aansuon ki lakir ban gayi; jaisi chaahia thi vaisi takdir ban gayi; hamne to sirph ret men ungaliyaan ghumaai thi; gaur se dekhaa to aapki tasvir ban gayi।


दिल की किताब में गुलाब उनका था;
रात की नींदों में ख्वाब उनका था;
कितना प्यार करते हो जब हमने पूछा;
मर जायेंगे तुम्हारे बिना यह जवाब उनका था।

dil ki kitaab men gulaab unkaa thaa; raat ki nindon men khvaab unkaa thaa; kitnaa pyaar karte ho jab hamne puchhaa; mar jaayenge tumhaare binaa yah javaab unkaa thaa।



दिल में प्यार का आगाज हुआ करता है;
बातें करने का अंदाज हुआ करता है;
जब तक दिल को ठोकर नहीं लगती;
सबको अपने प्यार पर नाज हुआ करता है!

dil men pyaar kaa aagaaj huaa kartaa hai; baaten karne kaa andaaj huaa kartaa hai; jab tak dil ko thokar nahin lagti; sabko apne pyaar par naaj huaa kartaa hai!



कब तक रहोगे आखिर यूं दूर हमसे;
मिलना पड़ेगा आखिर एक दिन जरूर हमसे;
दामन बचाने वाले ये बेरुखी है कैसी?
कह दो अगर हुआ है कोई कसूर हमसे!

kab tak rahoge aakhir yun dur hamse; milnaa padegaa aakhir ek din jarur hamse; daaman bachaane vaale ye berukhi hai kaisi? kah do agar huaa hai koi kasur hamse!


बहते अश्कों की ज़ुबान नहीं होती;
लफ़्ज़ों में मोहब्बत बयां नही होती;
मिले जो प्यार तो कदर करना;
किस्मत हर कीसी पर मेहरबां नहीं होती।

bahte ashkon ki jubaan nahin hoti; laphjon men mohabbat bayaan nahi hoti; mile jo pyaar to kadar karnaa; kismat har kisi par meharbaan nahin hoti।


ज़िन्दगी सिर्फ मोहब्बत नहीं कुछ और भी है;
ज़ुल्फ़-ओ-रुखसार की जन्नत नहीं कुछ और भी है;
भूख और प्यास की मारी हुई इस दुनिया में;
इश्क ही इक हकीकत नहीं कुछ और भी है!

jindgi sirph mohabbat nahin kuchh aur bhi hai; julph-o-rukhsaar ki jannat nahin kuchh aur bhi hai; bhukh aur pyaas ki maari hui es duniyaa men; eshk hi ek hakikat nahin kuchh aur bhi hai!



तक़दीर के आईने में मेरी तस्वीर खो गई;
आज हमेशा के लिए मेरी रूह सो गई;
मोहब्बत करके क्या पाया मैंने;
वो कल मेरी थी आज किसी और की हो गई!

takdir ke aaine men meri tasvir kho gayi; aaj hameshaa ke lia meri ruh so gayi; mohabbat karke kyaa paayaa mainne; vo kal meri thi aaj kisi aur ki ho gayi!


किसी के दिल में बसना कुछ बुरा तो नही;
किसी को दिल में बसाना कोई खता तो नही;
गुनाह हो यह ज़माने की नजर में तो क्या;
यह ज़माने वाले कोई खुदा तो नही!

kisi ke dil men basnaa kuchh buraa to nahi; kisi ko dil men basaanaa koi khataa to nahi; gunaah ho yah jmaane ki najar men to kyaa; yah jmaane vaale koi khudaa to nahi!


ये दिल न जाने क्या कर बैठा;
मुझसे बिना पूछे ही फैसला कर बैठा;
इस ज़मीन पर टूटा सितारा भी नहीं गिरता;
और ये पागल चाँद से मोहब्बत कर बैठा।

ye dil n jaane kyaa kar baithaa; mujhse binaa puchhe hi phaislaa kar baithaa; es jmin par tutaa sitaaraa bhi nahin girtaa; aur ye paagal chaand se mohabbat kar baithaa।


हर बार दिल से ये पैगाम आए;
ज़ुबाँ खोलूं तो तेरा ही नाम आए;
तुम ही क्यूँ भाए दिल को क्या मालूम;
जब नज़रों के सामने हसीन तमाम आए|

har baar dil se ye paigaam aaa; jubaan kholun to teraa hi naam aaa; tum hi kyun bhaaa dil ko kyaa maalum; jab najron ke saamne hasin tamaam aaa|


कुछ सोचूं तो तेरा ख्याल आ जाता है;
कुछ बोलूं तो तेरा नाम आ जाता है;
कब तलक बयाँ करूँ दिल की बात;
हर सांस में अब तेरा एहसास आ जाता है।

kuchh sochun to teraa khyaal aa jaataa hai; kuchh bolun to teraa naam aa jaataa hai; kab talak bayaan karun dil ki baat; har saans men ab teraa ehsaas aa jaataa hai।


कुछ चेहरे भुलाए नहीं जाते;
कुछ नाम दिल से मिटाए नहीं जाते;
मुलाक़ात हो न हो, अय मेरे यार;
प्यार के चिराग कभी बुझाए नहीं जाते।

kuchh chehre bhulaaa nahin jaate; kuchh naam dil se mitaaa nahin jaate; mulaakaat ho n ho, ay mere yaar; pyaar ke chiraag kabhi bujhaaa nahin jaate।


दुख मे खुशी की वजह बनती है मोहब्बत;
दर्द मे यादों की वजह बनती है मोहब्बत;
जब कुछ भी अच्छा नहीं लगता दुनिया में;
तब जीने की वजह बनती है मोहब्बत।


dukh me khushi ki vajah banti hai mohabbat;
dard me yaadon ki vajah banti hai mohabbat;
jab kuchh bhi achchhaa nahin lagtaa duniyaa men;

tab jine ki vajah banti hai mohabbat।

दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई;
दोनों को इक अदा में रजामंद कर गई;
शक हो गया है सीना, ख़ुशी लज्जते-फ़िराक;
तकलीफे-पर्दादारी-ए-ज़ख्म-जिगर गई!

dil se teri nigaah jigar tak utar gayi; donon ko ek adaa men rajaamand kar gayi; shak ho gayaa hai sinaa, khushi lajjte-phiraak; takliphe-pardaadaari-aye-jakhm-jigar gayi!

Post a comment

0 Comments