गुड नाईट शायरी | Good Night shayari | Good Night Image

Dosto good night shayari and good night shayari Image padhana chahte hai to .Ek Bar jarur hamare website shayarihd.com jarur aakar dekhe.Good Night Shayari , Good Night Shayari Image.


गुड नाईट शायरी, Good Night Shayari, Good Night Image

गुड नाईट शायरी, Good Night Shayari, Good Night Image




रब तू अपना जलवा दिखा दे
उनकी ज़िन्दगी कोई भी अपने
नूर से सजा दे रब मेरे दिल की ये दुआ हैं
मालिक मेरे दोस्त के सपने हकीक़त बना दे
“शुभ रात्रि “


Rab tu apna jala dikha de ,
unaki jindagi koi bhi Apne ,
noor se saja de rab mere dil ki duaa hai ,
Malik mere dost ke sapne hakikat bana de ; Good Night

गुड नाईट शायरी


हर रात मैं भी आपके पास उजाला हो 
हर कोई आपका चाहने वाला हो 
वक़्त गुजर जाये उनकी यादो के सहारे हो 
ऐसा कोई आप के सपनो को सजाने वाला ho “शुभ रात्रि “

Har raat main bhi aapke paas ujaalaa ho 
Har koi aapkaa chaahne vaalaa ho 
Vkt gujar jaaye unki yaado ke sahaare ho 
Aisaa koi aap ke sapno ko sajaane vaalaa ho “shubh raatri “

गुड नाईट शायरी


सितारे चाहते हैं की रात आये 
हम क्या लिखें की आपका जवाब आये 
सितारों की चमक तो नहीं मुझ मैं 
हम क्या करें की हमारी याद आये “शुभ रात्रि “


Sitaare chaahte hain ki raat aaye 
ham kyaa likhen ki aapkaa javaab aaye 
sitaaron ki chamak to nahin mujh main 
ham kyaa karen ki hamaari yaad aaye “shubh raatri “

गुड नाईट शायरी


ऐसी हसीं आज बहारो की रात हैं 
एक चाँद आसमा पैर हैं एक मेरे पास हैं 
देने वाले ने कोई कमी ना की किसको 
क्या मिला ये मुकद्दर की बात हैं “शुभ रात्रि “

Aisi hasin aaj bahaaro ki raat hain 
Ek chaand aasmaa pair hain ek mere paas hain 
Dene vaale ne koi kami naa ki kisko 
Kyaa milaa ye mukaddar ki baat hain “shubh raatri “

गुड नाईट शायरी

उसकी प्यारी मुस्कान होश उड़ा देती हैं, 
उसकी आँखें हमें दुनिया भुला देती हैं, 
आएगी आज भी वो सपने मैं यारो, 
बस यही उम्मीद हमें रोज़ सुला देती हैं “शुभ रात्रि “

Uski pyaari muskaan hosh udaa deti hain 
Uski aankhen hamen duniyaa bhulaa deti hain 
Aaagi aaj bhi vo sapne main yaaro 
Bas yahi ummid hamen roj sulaa deti hain “shubh raatri “

गुड नाईट शायरी

चाँद भी तो देखो तुम्हें तक रहा हैं 
सितारे भी थमे थमे से लग रहे हैं 
जरा मुस्कुरा दो हम सब के लिए 
हम भी टू तुम्हें शुभ रात्रि कह रहें हैं “शुभ रात्रि “


Chaand bhi to dekho tumhen tak rahaa hain
 Sitaare bhi thame thame se lag rahe hain 
Jaraa muskuraa do ham sab ke lia 
Ham bhi tu tumhen shubh raatri kah rahen hain “shubh raatri “

गुड नाईट शायरी

आज कितने दिनों के बाद हुई ये बरसात हैं 
याद दिलाती आपकी हर एक बात हैं 
मुझे मालूम हैं आपकी आँखों मैं हैं 
नींद आप चैन से सो जाओ कितनी हसीं रात हैं “शुभ रात्रि “

Aaj kitne dinon ke baad hui ye barsaat hain 
Yaad dilaati aapki har ek baat hain 
Mujhe maalum hain aapki aankhon main hain 
Nind aap chain se so jaao kitni hasin raat hain “shubh raatri “

गुड नाईट शायरी


जिन्दगी एक रात है, जिस में ना जाने कितने ख्वाब हैं, 
जो मिल गया वो अपना है, जो टुट गया वो सपना है, 
ये मत सोचो की जिन्दगी में कितने पल है, 
ये सोचो की हर पल में कितनी जिन्दगी है, 
इसलिए… जिन्दगी को जी भर कर जी लो…

Jindgi ek raat hai, jis men naa jaane kitne khvaab hain, 
jo mil gayaa vo apnaa hai, jo tut gayaa vo sapnaa hai, 
ye mat socho ki jindgi men kitne pal hai, 
ye socho ki har pal men kitni jindgi hai, esalia…
 jindgi ko ji bhar kar ji lo…

गुड नाईट शायरी

काश कि तु चाँद और मैं सितारा होता; 
आसमान में एक आशियाना हमारा होता; 
लोग तुम्हे दूर से देखते; 
नज़दीक़ से देखने का हक़ बस हमारा होता।

Kaash ki tu chaand aur main sitaaraa hotaa; 
Aasmaan men ek aashiyaanaa hamaaraa hotaa; 
Log tumhe dur se dekhte; 
Najdik se dekhne kaa hak bas hamaaraa hotaa।

गुड नाईट शायरी




चाँद को बैठाकर पहरों पर; 
तारों को दिया निगरानी का काम; 
एक रात सुहानी आपके लिए; 
एक स्वीट सा ‘ड्रीम’ आपकी आँखों के नाम 
! शुभ रात्रि!

Chaand ko baithaakar pahron par; 
Taaron ko diyaa nigraani kaa kaam; 
Ek raat suhaani aapke lia; 
Ek svit saa ‘drim’ aapki aankhon ke naam 
! shubh raatri!

गुड नाईट शायरी


मीठी-मीठी यादों को पलकों में, 
सजा लेना साथ गुजारे पल को पलकों में,
 बसा लेना दिल को फिर भी न मिले सुकून तो,
 मुस्कुरा के मुझे अपने सवाप्नो में बुला लेना ....! 
"शुभ-रात्रि "

Mithi-mithi yaadon ko palkon men, 
Sajaa lenaa saath gujaare pal ko palkon men
 Basaa lenaa dil ko phir bhi n mile sukun to
 muskuraa ke mujhe apne savaapno men bulaa lenaa ....!
 "shubh-raatri "

Previous Post Next Post