Friendship Shayari, Hindi Friendship Sms, Dosti Shayari 2020

Friendship Shayari: Friendship is a kind of love in which we respect, feelings of care, respect, admiration, concern, love, or the like. Today we are sharing Hindi shayari with friendship. If you like it, then do share it.


Friendship Shayari in hindi | Dosti shayari in Hindi| Friendship Shayari image download | Hindi shayri | Hindi Dosti Shayri | Dosti Shayari images.

Friendship Shayari in hindi | Dosti shayari in Hindi



दोस्ती का रिश्ता दो अंजानो को जोड देता है,
हर कदम पर जिन्दगी को नया मोड देता है,
सच्चा दोस्त साथ देता है तब...
जब अपना साया भी साथ छोड देता है.

Dosti ka rishta do anjano ko jor deta hai,
Har kdam par jindagi ko naya mor deta hai,
Sachchha dost sath hai tab......
Jab apana saya bhi chhor deta hai.

Friendship Shayari in hindi


गुनाह करके सज़ा से डरते हैं,
जहर पी के दवा से डरते हैं,
दुश्मनों के सितम का खौफ नहीं,
हम तो दोस्तों की वफ़ा से डरते हैं

Gunah karke saja se darte hain,
Jahar pi ke dava se darte hain,
Dushmano ke sitam ka khauph nahi,
Ham to doston ki vapha darte hai,


दोस्तों की कमी को पहचानते है हम,
दुनियाँ के गमों को भी जानते है हम,
आप जैसे दोस्तों के ही सहारे..
आज भी हँस कर जीना जानते है हम

Dosto ki kami ko pahachhante hai ham,
Duniyan ke gam ko bhi jante hai ham,
Aap jeise doston ke hi sahare,
Aaj bhi hans kar jina jante hai ham,

एक हसीन पल की जरूरत है हमें,
बीते हुए कल की जरूरत है हमें,
सारा जहाँ रूठ गया हमसे..
जो कभी ना रूठे ऐसे दोस्त की जरूरत है हमें

Ek hasin pal ki jarurat hai hamei,
Batein hue kal ki jarurat hai hamei,
Sara jahan ruth gya hamse..,
Jo kabhi na ruthe yese dosto ki jarurt hai hamei,

Hindi Friendship shayari 


कुछ सालों बाद ना जाने क्या होगा,
ना जाने कौन दोस्त कहाँ होगा...
फिर मिलना हुआ तो मिलेगे यादों में,
जैसे सूखे हुए गुलाब मिले किताबों में.


kuchh saalon baad naa jaane kyaa hogaa,
naa jaane kaun dost kahaan hogaa...
phir milna huaa to milege yaadon men,
jaise sukhe hua gulaab mile kitaabon men.



क्युँ मुश्किलों में साथ देते हैं दोस्त,
क्युँ गम को बांट लेते है दोस्त,
ना रिश्ता खून का ना रिवाज से बंधा,
फिर भी जिन्दगी भर साथ देते हैं दोस्त


kyun mushkilon men saath dete hain dost
kyun gam ko baant lete hai dost,
naa rishtaa khun kaa naa rivaaj se bandhaa,
phir bhi jindgi bhar saath dete hain dost



दिल टूटना सजा है महोब्बत की,
दिल जोडना अदा है दोस्ती की,
माँगे जो कुर्बानी वो है महोब्बत,
जो बिन माँगे हो जाऐ कुर्बान...
...वो है दोस्ती हमारी


dil tutnaa sajaa hai mahobbat ki,
dil jodnaa adaa hai dosti ki,
maange jo kurbaani vo hai mahobbat,
jo bin maange ho jaaai kurbaan...

...vo hai dosti hamaari

दिल में तुम्हारे अपनी कमी छोड जाऐंगे,
 आँखों में इंतज़ार की लकीर छोड जाऐंगे,
याद रखना मुझे ढूँढते फिरोगे एक दिन,
 जिन्दगी में देस्ती की कहानी छोड जाऐंगे.


dil men tumhaare apni kami chhod jaaainge,
 aankhon men entajaar ki lakir chhod jaaainge,
yaad rakhnaa mujhe dhundhte phiroge ek din,
 jindgi men desti ki kahaani chhod jaaainge.



दोस्ती नज़रों से हो तो उसे कुदरत कहते हैं,
 सितारों से हो तो उसे जन्नत रहते है,
हुसन से हो तो उसे महोब्बत कहते है,
 और दोस्ती आप जैसे दोस्त से हो तो उसे किस्मत कहते है,

dosti najron se ho to use kudarat kahte hain,
 sitaaron se ho to use jannat rahte hai,
husan se ho to use mahobbat kahte hai,
 aur dosti aap jaise dost se ho to use kismat kahte hai,

नहीं बन जाता कोई अपना
...... यूँ ही दिल लगाने से,
करनी पड़ती है दुआ,
...सच्ता दोस्त पाने के लिए रब से,
रखना संभालकर ये याराना अपना,
टूट ना जाए ये किसी के बहकाने से


nahin ban jaataa koi apnaa
...... yun hi dil lagaane se,
karni padti hai duaa,
...sachtaa dost paane ke lia rab se,
rakhnaa sambhaalakar ye yaaraanaa apnaa,
tut naa jaaa ye kisi ke bahkaane se


हर एक मोड पे हम गिरते थे किसी ने भी ना हमको उठाया था,
तब तूने ही सनम एक उमीद का दिया जलाया था,
अपने हर एक गम को छुपाकर मुझे जीना सिखाया था

har ek mod pe ham girte the kisi ne bhi naa hamko uthaayaa thaa, tab tune hi sanam ek umid kaa diyaa jalaayaa thaa, apne har ek gam ko chhupaakar mujhe jinaa sikhaayaa thaa

Post a comment

0 Comments