Ghazal shayari in hindi | ghazal shayari sad

ghazal shayari in hindi


Ghazal shayari in hindi


हर जनम में....

हर जनम में उसी की चाहत थे;
हम किसी और की अमानत थे;
उसकी आँखों में झिलमिलाती हुई;
हम ग़ज़ल की कोई अलामत थे;
तेरी चादर में तन समेट लिया;
हम कहाँ के दराज़क़ामत थे;
जैसे जंगल में आग लग जाये;
हम कभी इतने ख़ूबसूरत थे;
पास रहकर भी दूर-दूर रहे;
हम नये दौर की मोहब्बत थे;
इस ख़ुशी में मुझे ख़याल आया;
ग़म के दिन कितने ख़ूबसूरत थे
दिन में इन जुगनुओं से क्या लेना;
ये दिये रात की ज़रूरत थे।

har janam men....

har janam men usi ki chaahat the;
ham kisi aur ki amaanat the;
uski aankhon men jhilamilaati hui;
ham gajal ki koi alaamat the;
teri chaadar men tan samet liyaa;
ham kahaan ke daraajakaamat the;
jaise jangal men aag lag jaaye;
ham kabhi etne khubsurat the;
paas rahakar bhi dur-dur rahe;
ham naye daur ki mohabbat the;
es khushi men mujhe khyaal aayaa;
gam ke din kitne khubsurat the
din men en juganuon se kyaa lenaa;
ye diye raat ki jrurat the।


Ghazal shayari in hindi


ghazal shayari hindi
ghazal shayari hindi

कोई बिजली इन ख़राबों में घटा रौशन करे;
ऐ अँधेरी बस्तियो! तुमको खुदा रौशन करे;

नन्हें होंठों पर खिलें मासूम लफ़्ज़ों के गुलाब;
और माथे पर कोई हर्फ़-ए-दुआ रौशन करे;

ज़र्द चेहरों पर भी चमके सुर्ख जज़्बों की धनक;
साँवले हाथों को भी रंग-ए-हिना रौशन करे;

एक लड़का शहर की रौनक़ में सब कुछ भूल जाए;
एक बुढ़िया रोज़ चौखट पर दिया रौशन करे;

ख़ैर अगर तुम से न जल पाएँ वफाओं के चिराग;
तुम बुझाना मत जो कोई दूसरा रौशन करे।

koi bijli en khraabon men ghataa raushan kare;
ai andheri bastiyo! tumko khudaa raushan kare;

nanhen honthon par khilen maasum laphjon ke gulaab;
aur maathe par koi harph-aye-duaa raushan kare;

jard chehron par bhi chamke surkh jajbon ki dhanak;
saanvle haathon ko bhi rang-aye-hinaa raushan kare;

ek ladkaa shahar ki raunak men sab kuchh bhul jaaa;
ek budhiyaa roj chaukhat par diyaa raushan kare;

khair agar tum se n jal paaan vaphaaon ke chiraag;
tum bujhaanaa mat jo koi dusraa raushan kare।


Ghazal shayari in hindi


तेरा चेहरा सुब्ह का तारा लगता है;
सुब्ह का तारा कितना प्यारा लगता है;

तुम से मिल कर इमली मीठी लगती है;
तुम से बिछड़ कर शहद भी खारा लगता है;

रात हमारे साथ तू जागा करता है;
चाँद बता तू कौन हमारा लगता है;

किस को खबर ये कितनी कयामत ढाता है;
ये लड़का जो इतना बेचारा लगता है;

तितली चमन में फूल से लिपटी रहती है;
फिर भी चमन में फूल कँवारा लगता है;

'कैफ' वो कल का 'कैफ' कहाँ है आज मियाँ;
ये तो कोई वक्त का मारा लगता है।

teraa chehraa subh kaa taaraa lagtaa hai;
subh kaa taaraa kitnaa pyaaraa lagtaa hai;

tum se mil kar emli mithi lagti hai;
tum se bichhad kar shahad bhi khaaraa lagtaa hai;

raat hamaare saath tu jaagaa kartaa hai;
chaand bataa tu kaun hamaaraa lagtaa hai;

kis ko khabar ye kitni kayaamat dhaataa hai;
ye ladkaa jo etnaa bechaaraa lagtaa hai;

titli chaman men phul se lipti rahti hai;
phir bhi chaman men phul knvaaraa lagtaa hai;

'kaiph' vo kal kaa 'kaiph' kahaan hai aaj miyaan;
ye to koi vakt kaa maaraa lagtaa hai।

Ghazal shayari in hindi


नज़र फ़रेब-ए-कज़ा खा गई तो क्या होगा;
हयात मौत से टकरा गई तो क्या होगा;

नई सहर के बहुत लोग मुंतज़िर हैं मगर;
नई सहर भी कजला गई तो क्या होगा;

न रहनुमाओं की मजलिस में ले चलो मुझको;
मैं बे-अदब हूँ हँसी आ गई तो क्या होगा;

ग़म-ए-हयात से बेशक़ है ख़ुदकुशी आसाँ;
मगर जो मौत भी शर्मा गई तो क्या होगा;

शबाब-ए-लाला-ओ-गुल को पुकारनेवालों;
ख़िज़ाँ-सिरिश्त बहार आ गई तो क्या होगा;

ख़ुशी छीनी है तो ग़म का भी ऐतमाद न कर;
जो रूह ग़म से भी उकता गई तो क्या होगा।

najar phreb-aye-kajaa khaa gayi to kyaa hogaa;
hayaat maut se takraa gayi to kyaa hogaa;

nayi sahar ke bahut log muntajir hain magar;
nayi sahar bhi kajlaa gayi to kyaa hogaa;

n rahanumaaon ki majalis men le chalo mujhko;
main be-adab hun hnsi aa gayi to kyaa hogaa;

gam-aye-hayaat se beshak hai khudakushi aasaan;
magar jo maut bhi sharmaa gayi to kyaa hogaa;

shabaab-aye-laalaa-o-gul ko pukaarnevaalon;
khijaan-sirisht bahaar aa gayi to kyaa hogaa;

khushi chhini hai to gam kaa bhi aitmaad n kar;
jo ruh gam se bhi uktaa gayi to kyaa hogaa।


Ghazal shayari in hindi


तेरे कमाल की हद...

तेरे कमाल की हद कब कोई बशर समझा;
उसी क़दर उसे हैरत है, जिस क़दर समझा;

कभी न बन्दे-क़बा खोल कर किया आराम;
ग़रीबख़ाने को तुमने न अपना घर समझा;

पयामे-वस्ल का मज़मूँ बहुत है पेचीदा;
कई तरह इसी मतलब को नामाबर समझा;

न खुल सका तेरी बातों का एक से मतलब;
मगर समझने को अपनी-सी हर बशर समझा।

tere kamaal ki had...

tere kamaal ki had kab koi bashar samjhaa;
usi kadar use hairat hai, jis kadar samjhaa;

kabhi n bande-kbaa khol kar kiyaa aaraam;
gribakhaane ko tumne n apnaa ghar samjhaa;

payaame-vasl kaa majmun bahut hai pechidaa;
kayi tarah esi matalab ko naamaabar samjhaa;

n khul sakaa teri baaton kaa ek se matalab;
magar samajhne ko apni-si har bashar samjhaa।

Post a comment

0 Comments