Gulzal shayari in hindi | Gulzal shayari sad | Gulzar quotes , Status , Images

Gulzar quotes , Status , Images
Gulzar quotes , Status , Images


Gulzal shayari in hindi


हर जनम में....

हर जनम में उसी की चाहत थे;
हम किसी और की अमानत थे;
उसकी आँखों में झिलमिलाती हुई;
हम ग़ज़ल की कोई अलामत थे;
तेरी चादर में तन समेट लिया;
हम कहाँ के दराज़क़ामत थे;
जैसे जंगल में आग लग जाये;
हम कभी इतने ख़ूबसूरत थे;
पास रहकर भी दूर-दूर रहे;
हम नये दौर की मोहब्बत थे;
इस ख़ुशी में मुझे ख़याल आया;
ग़म के दिन कितने ख़ूबसूरत थे
दिन में इन जुगनुओं से क्या लेना;
ये दिये रात की ज़रूरत थे।

har janam men....

Har janam men usi ki chaahat the;
Ham kisi aur ki amaanat the;
Uski aankhon men jhilamilaati hui;
Ham gajal ki koi alaamat the;
Teri chaadar men tan samet liyaa;
Ham kahaan ke daraajakaamat the;
Jaise jangal men aag lag jaaye;
Ham kabhi etne khubsurat the;
Paas rahakar bhi dur-dur rahe;
Ham naye daur ki mohabbat the;
Es khushi men mujhe khyaal aayaa;
Gam ke din kitne khubsurat the
Din men en juganuon se kyaa lenaa;
Ye diye raat ki jrurat the।


Gulzal shayari in hindi


gulzal shayari hindi
gulzal shayari hindi

कोई बिजली इन ख़राबों में घटा रौशन करे;
ऐ अँधेरी बस्तियो! तुमको खुदा रौशन करे;

नन्हें होंठों पर खिलें मासूम लफ़्ज़ों के गुलाब;
और माथे पर कोई हर्फ़-ए-दुआ रौशन करे;

ज़र्द चेहरों पर भी चमके सुर्ख जज़्बों की धनक;
साँवले हाथों को भी रंग-ए-हिना रौशन करे;

एक लड़का शहर की रौनक़ में सब कुछ भूल जाए;
एक बुढ़िया रोज़ चौखट पर दिया रौशन करे;

ख़ैर अगर तुम से न जल पाएँ वफाओं के चिराग;
तुम बुझाना मत जो कोई दूसरा रौशन करे।

Koi bijli en khraabon men ghataa raushan kare;
Ai andheri bastiyo! tumko khudaa raushan kare;

Nanhen honthon par khilen maasum laphjon ke gulaab;
Aur maathe par koi harph-aye-duaa raushan kare;

Jard chehron par bhi chamke surkh jajbon ki dhanak;
Saanvle haathon ko bhi rang-aye-hinaa raushan kare;

Ek ladkaa shahar ki raunak men sab kuchh bhul jaaa;
Ek budhiyaa roj chaukhat par diyaa raushan kare;

Khair agar tum se n jal paaan vaphaaon ke chiraag;
Tum bujhaanaa mat jo koi dusraa raushan kare।


Gulzal shayari in hindi


तेरा चेहरा सुब्ह का तारा लगता है;
सुब्ह का तारा कितना प्यारा लगता है;

तुम से मिल कर इमली मीठी लगती है;
तुम से बिछड़ कर शहद भी खारा लगता है;

रात हमारे साथ तू जागा करता है;
चाँद बता तू कौन हमारा लगता है;

किस को खबर ये कितनी कयामत ढाता है;
ये लड़का जो इतना बेचारा लगता है;

तितली चमन में फूल से लिपटी रहती है;
फिर भी चमन में फूल कँवारा लगता है;

'कैफ' वो कल का 'कैफ' कहाँ है आज मियाँ;
ये तो कोई वक्त का मारा लगता है।

Teraa chehraa subh kaa taaraa lagtaa hai;
Subh kaa taaraa kitnaa pyaaraa lagtaa hai;

Tum se mil kar emli mithi lagti hai;
Tum se bichhad kar shahad bhi khaaraa lagtaa hai;

Raat hamaare saath tu jaagaa kartaa hai;
Chaand bataa tu kaun hamaaraa lagtaa hai;

Kis ko khabar ye kitni kayaamat dhaataa hai;
ye ladkaa jo etnaa bechaaraa lagtaa hai;

Titli chaman men phul se lipti rahti hai;
Phir bhi chaman men phul knvaaraa lagtaa hai;

'Kaiph' vo kal kaa 'kaiph' kahaan hai aaj miyaan;
Ye to koi vakt kaa maaraa lagtaa hai।

Gulzal shayari in hindi


नज़र फ़रेब-ए-कज़ा खा गई तो क्या होगा;
हयात मौत से टकरा गई तो क्या होगा;

नई सहर के बहुत लोग मुंतज़िर हैं मगर;
नई सहर भी कजला गई तो क्या होगा;

न रहनुमाओं की मजलिस में ले चलो मुझको;
मैं बे-अदब हूँ हँसी आ गई तो क्या होगा;

ग़म-ए-हयात से बेशक़ है ख़ुदकुशी आसाँ;
मगर जो मौत भी शर्मा गई तो क्या होगा;

शबाब-ए-लाला-ओ-गुल को पुकारनेवालों;
ख़िज़ाँ-सिरिश्त बहार आ गई तो क्या होगा;

ख़ुशी छीनी है तो ग़म का भी ऐतमाद न कर;
जो रूह ग़म से भी उकता गई तो क्या होगा।

Najar phreb-aye-kajaa khaa gayi to kyaa hogaa;
Hayaat maut se takraa gayi to kyaa hogaa;

Nayi sahar ke bahut log muntajir hain magar;
Nayi sahar bhi kajlaa gayi to kyaa hogaa;

N rahanumaaon ki majalis men le chalo mujhko;
Main be-adab hun hnsi aa gayi to kyaa hogaa;

Gam-aye-hayaat se beshak hai khudakushi aasaan;
Magar jo maut bhi sharmaa gayi to kyaa hogaa;

Shabaab-aye-laalaa-o-gul ko pukaarnevaalon;
Khijaan-sirisht bahaar aa gayi to kyaa hogaa;

Khushi chhini hai to gam kaa bhi aitmaad n kar;
Jo ruh gam se bhi uktaa gayi to kyaa hogaa।

Gulzal shayari in hindi


तेरे कमाल की हद...

तेरे कमाल की हद कब कोई बशर समझा;
उसी क़दर उसे हैरत है, जिस क़दर समझा;

कभी न बन्दे-क़बा खोल कर किया आराम;
ग़रीबख़ाने को तुमने न अपना घर समझा;

पयामे-वस्ल का मज़मूँ बहुत है पेचीदा;
कई तरह इसी मतलब को नामाबर समझा;

न खुल सका तेरी बातों का एक से मतलब;
मगर समझने को अपनी-सी हर बशर समझा।

tere kamaal ki had...

Tere kamaal ki had kab koi bashar samjhaa;
Usi kadar use hairat hai, jis kadar samjhaa;

Kabhi n bande-kbaa khol kar kiyaa aaraam;
Gribakhaane ko tumne n apnaa ghar samjhaa;

Payaame-vasl kaa majmun bahut hai pechidaa;
Kayi tarah esi matalab ko naamaabar samjhaa;

N khul sakaa teri baaton kaa ek se matalab;
Magar samajhne ko apni-si har bashar samjhaa।



I Hope  You Like our best Collection of Best Gulzal shayari in hindi | Gulzal shayari sad | Gulzar quotes , Status , Images Helpful, Please don't be cheap to share the collection also to your friends.

नमस्ते! मेरा रजनीश कुमार है। मै आपको यहां शायरी से सम्बंधित articles लिखता हूँ। यदि आप शायरी से संबंधित कोई articles लिखना चाहते हैं, तो कृपया royrajnish333@gmail.com पर लिख कर ईमेल करे । कृपया अपने ईमेल में अपने पूर्ण नाम के साथ हमें ईमेल करे ।

Post a comment

नमस्ते! मेरा रजनीश कुमार है। मै आपको यहां शायरी से सम्बंधित articles लिखता हूँ। यदि आप शायरी से संबंधित कोई articles लिखना चाहते हैं, तो कृपया royrajnish333@gmail.com पर लिख कर ईमेल करे । कृपया अपने ईमेल में अपने पूर्ण नाम के साथ हमें ईमेल करे ।

Post a Comment (0)

Previous Post Next Post