Good morning shayari in hindi | शुप्रभात शायरी


Good morning shayari in hindi | शुप्रभात शायरी

Good morning shayari in hindi | शुप्रभात शायरी
Good morning shayari in hindi | शुप्रभात शायरी

फूलों ने अमृत का जाम भेजा हैं… सूरज ने गगन से सलाम भेजा हैं… मुबारक हो आपको नयी सुबह ….. तहे दिल से हमने ये पैगाम भेजा हैं … “सुप्रभात “

phulon ne amriat kaa jaam bhejaa hain… suraj ne gagan se salaam bhejaa hain… mubaarak ho aapko nayi subah ….. tahe dil se hamne ye paigaam bhejaa hain … “suprbhaat “


हर सुबह की धुप कुछ याद दिलाती हैं.. हर फूल की खुशबू एक जादू जगाती हैं… चाहू ना…. चाहू कितना भी यार… सुबह सुबह आपकी याद आ ही जाती हैं .. “सुप्रभात “

har subah ki dhup kuchh yaad dilaati hain.. har phul ki khushbu ek jaadu jagaati hain… chaahu naa…. chaahu kitnaa bhi yaar… subah subah aapki yaad aa hi jaati hain .. “suprbhaat “

रात गुजारी फिर महकती सुबह आई … दिल धड़का फिर तुम्हारी याद आई.. आँखों ने महसूस किया उस हवा को … जो तुम्हें छु कर हमारे पास आई .. “सुप्रभात “

raat gujaari phir mahakti subah aai … dil dhdkaa phir tumhaari yaad aai.. aankhon ne mahsus kiyaa us havaa ko … jo tumhen chhu kar hamaare paas aai .. “suprbhaat “


हर सुबह तेरी मुस्कुराती रहे.. हर शाम तेरी गुनगुनाती रहें… मेरी दुआ हैं की तू जिस भी मिलें हर मिलने वाले को तेरी याद सताती रहें… “सुप्रभात “

har subah teri muskuraati rahe.. har shaam teri gunagunaati rahen… meri duaa hain ki tu jis bhi milen har milne vaale ko teri yaad sataati rahen… “suprbhaat “

आँखें खोलो भगवन का नाम लो… सांस लो ठंडी हवा का जाम लो… फिर ज़रा मोबाइल हाथ मैं थाम लो… और हम से 1 दिलकश सुबह का पैगाम लो “सुप्रभात “

aankhen kholo bhagavan kaa naam lo… saans lo thandi havaa kaa jaam lo… phir jraa mobaael haath main thaam lo… aur ham se 1 dilakash subah kaa paigaam lo “suprbhaat “

नयी सी सुबह, नया सा सवेरा … सूरज की किरणों मैं हवाओ का बसेरा .. खुले आसमान मैं सूरज का चेहरा …. मुबारक हो आपको ये हसीं सवेरा “सुप्रभात “

nayi si subah, nayaa saa saveraa … suraj ki kirnon main havaao kaa baseraa .. khule aasmaan main suraj kaa chehraa …. mubaarak ho aapko ye hasin saveraa “suprbhaat “

आप नहीं होते तो हम खो गए होते… अपनी ज़िन्दगी से रुसवा हो गए होते… ये तो आपको “गुड मोर्निंग” कहने के लिए उठें हैं … वर्ना हम तो अभी तक सो रहे होते …. “शुभ दिन “

aap nahin hote to ham kho gaye hote… apni jindgi se rusvaa ho gaye hote… ye to aapko “gud morning” kahne ke lia uthen hain … varnaa ham to abhi tak so rahe hote …. “shubh din “


ढल रही हैं शबनमी रात हलके हलके ऐसे मैं ना जाओ सनम , वाला करोए कल के बिस्तर की सलवटों से मालूम कर लो की कैसी काटी हैं हमने रात करवट बदल बदल के “शुभ दिन “

dhal rahi hain shabanmi raat halke halke aise main naa jaao sanam , vaalaa karoa kal ke bistar ki salavton se maalum kar lo ki kaisi kaati hain hamne raat karavat badal badal ke “shubh din “

अज़ीज़ भी वो हैं , नसीब भी वो हैं दुनिया की भीड़ मैं करीब भी वो हैं उनके आशीर्वाद से हैं चलती ज़िन्दगी खुदा भी वो हैं और तकदीर भी वो हैं “शुभ दिन “

ajij bhi vo hain , nasib bhi vo hain duniyaa ki bhid main karib bhi vo hain unke aashirvaad se hain chalti jindgi khudaa bhi vo hain aur takdir bhi vo hain “shubh din “


सुबह सुबह ज़िन्दगी की शुरुआत होती हैं किसी अपने से बात हो तो खास होती हैं हंस के प्यार से अपनों को “शुभ दिन ” बोल दो फिर तो ख़ुशी अपने आप साथ होती हैं “शुभ दिन “

subah subah jindgi ki shuruaat hoti hain kisi apne se baat ho to khaas hoti hain hans ke pyaar se apnon ko “shubh din ” bol do phir to khushi apne aap saath hoti hain “shubh din “

Post a comment

0 Comments