इंतज़ार शायरी । Intzaar Shayari in Hindi | Whatsapp status

Intezaar Shayari in Hindi. Best new intzaar shayari in Hindi.intezaar shayari in hindi for girlfriend,intezaar shayari rekhta,tera intezaar shayari,intezaar shayari for friend,intezaar shayari hindi for boyfriend and intezaar shayari 2 lines.

Intzaar Shayari in Hindi


आँखों में बसी है प्यारी सूरत तेरी; 
और दिल में बसा है तेरा प्यार; 
चाहे तू कबूल करे या ना करे; 
हमें रहेगा तेरा इंतज़ार!

Aankhon men basi hai pyaari surat teri; 
aur dil men basaa hai teraa pyaar; 
chaahe tu kabul kare yaa naa kare; 
hamen rahegaa teraa entajaar!

Intzaar Shayari in Hindi


कब उनकी पलकों से इज़हार होगा;
 दिल के किसी कोने में हमारे लिए प्यार होगा; 
गुज़र रही है रात उनकी याद में; 
कभी तो उनको भी हमारा इंतज़ार होगा!

kab unki palkon se ejhaar hogaa; 
dil ke kisi kone men hamaare lia pyaar hogaa; gujar rahi hai raat unki yaad men; kabhi to unko bhi hamaaraa entajaar hogaa!

Intzaar Shayari in Hindi


नज़र चाहती है दीदार करना;
 दिल चाहता है प्यार करना; 
क्या बतायें इस दिल का आलम; 
नसीब में लिखा है इंतजार करना।

najar chaahti hai didaar karnaa; 
dil chaahtaa hai pyaar karnaa; 
kyaa bataayen es dil kaa aalam; 
nasib men likhaa hai entjaar karnaa।


ज़ख्म इतने गहरे हैं इज़हार क्या करें; 
हम खुद निशान बन गए वार क्या करें; 
मर गए हम मगर खुलो रही आँखें; 
अब इससे ज्यादा इंतज़ार क्या करें!

jakhm etne gahre hain ejhaar kyaa karen; ham khud nishaan ban gaye vaar kyaa karen; 
mar gaye ham magar khulo rahi aankhen; ab esse jyaadaa entajaar kyaa karen!

इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा; 
यादें काटती हैं ले-ले के नाम तेरा; 
मुद्दत से बैठे हैं तेरे इंतज़ार में;
 कि आज आयेगा कोई पैगाम तेरा!

entajaar rahtaa hai har shaam teraa; yaaden kaatti hain le-le ke naam teraa; muddat se baithe hain tere entajaar men; 
ki aaj aayegaa koi paigaam teraa!

हमने ये शाम चराग़ों से सजा रक्खी है;​​ ​
आपके इंतजार में पलके बिछा रखी हैं; ​
हवा टकरा रही है शमा से बार-बार;​​ ​
और हमने शर्त इन हवाओं से लगा रक्खी है।

hamne ye shaam charaagon se sajaa rakkhi hai;​​ ​
aapke entjaar men palke bichhaa rakhi hain; 
​hvaa takraa rahi hai shamaa se baar-baar;​​ ​aur hamne shart en havaaon se lagaa rakkhi hai।

“ए पलक तु बन्‍द हो जा, 
ख्‍बाबों में उसकी सूरत तो नजर आयेगी
 इन्‍तजार तो सुबह दुबारा शुरू होगी 
कम से कम रात तो खुशी से कट जायेगी ”

“aye palak tu ban‍d ho jaa, 
kh‍baabon men uski surat to najar aayegi en‍tjaar to subah dubaaraa shuru hogi 
kam se kam raat to khushi se kat jaayegi ”

उनका भी कभी हम दीदार करते है
 उनसे भी कभी हम प्यार करते है 
क्या करे जो उनको हमारी जरुरत न थी
 पर फिर भी हम उनका इंतज़ार करते है !

unkaa bhi kabhi ham didaar karte hai
 unse bhi kabhi ham pyaar karte hai 
kyaa kare jo unko hamaari jarurat n thi 
par phir bhi ham unkaa entajaar karte hai !

उसके इंतजार के मारे है हम..
 बस उसकी यादों के सहारे है हम… 
दुनियाँ जीत के कहना क्या है अब..?? 
जिसे दुनियाँ से जीतना था आज उसी से हारे है हम..

uske entjaar ke maare hai ham.. 
bas uski yaadon ke sahaare hai ham… duniyaan jit ke kahnaa kyaa hai ab..?? 
jise duniyaan se jitnaa thaa aaj usi se haare hai ham..

तेरे इंतजार मे कब से उदास बैठे है तेरे दीदार में आँखे बिछाये बैठे है तू एक नज़र हम को देख ले इस आस मे कब से बेकरार बैठे है

tere entjaar me kab se udaas baithe hai tere didaar men aankhe bichhaaye baithe hai tu ek najar ham ko dekh le es aas me kab se bekraar baithe hai.

कोई वादा नहीं फिर भी तेरा इंतज़ार है!
 जुदाई के बाद भी तुम से प्यार है!
 तेरे चेहरे की उदासी बता रही है!
 मुझसे मिलने के लिये तू भी बेकरार है!

koi vaadaa nahin phir bhi teraa entajaar hai! 
judaai ke baad bhi tum se pyaar hai!
 tere chehre ki udaasi bataa rahi hai! mujhse milne ke liye tu bhi bekraar hai!

उसने कहा अब किसका इंतज़ार है; 
मैंने कहा अब मोहब्बत बाकी है; 
उसने कहा तू तो कब का गुजर चूका है ‘मसरूर’; 
मैंने कहा अब भी मेरा हौसला बाकी है!

usne kahaa ab kiskaa entajaar hai; 
mainne kahaa ab mohabbat baaki hai; 
usne kahaa tu to kab kaa gujar chukaa hai ‘masrur’; 
mainne kahaa ab bhi meraa hauslaa baaki hai!


एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यों है; 
इंकार करने पर चाहत का इकरार क्यों है; 
उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद; 
फिर हर मोड़ पे उसी का इंतज़ार क्यों है!

ek ajanbi se mujhe etnaa pyaar kyon hai; enkaar karne par chaahat kaa ekraar kyon hai; 
use paanaa nahin meri takdir men shaayad; phir har mod pe usi kaa entajaar kyon hai!

होंठ कह नहीं सकते जो फ़साना दिल का;
 शायद नज़रों से वो बात हो जाए; 
इस उम्मीद से करते हैं इंतज़ार रात का;
 कि शायद सपनों में ही मुलाक़ात हो जाए!

honth kah nahin sakte jo phsaanaa dil kaa; shaayad najron se vo baat ho jaaa; 
es ummid se karte hain entajaar raat kaa; 
ki shaayad sapnon men hi mulaakaat ho jaaa!


मजा तो हमने इंतजार में देखा है, 
चाहत का असर प्यार में देखा है,
लोग ढूंढ़ते हैं जिसे मंदिर मस्जिद में,
उस खुदा को मैने आपमें देखा है

majaa to hamne entjaar men dekhaa hai, chaahat kaa asar pyaar men dekhaa hai, 
log dhundhte hain jise mandir masjid men, us khudaa ko maine aapmen dekhaa hai

Post a comment

0 Comments